गांधीजी के 150वें जन्मदिन पर 'खादी एक्सप्रेस' चलाने की तैयारी, ये होगी खासियत

यह ट्रेन उन जगहों पर एक-दो दिनों के लिए रुकेगी जहां-जहां गांधीजी ने समय गुजारा था.

गांधीजी के 150वें जन्मदिन पर 'खादी एक्सप्रेस' चलाने की तैयारी, ये होगी खासियत
एक बोगी में महात्मा गांधी के जीवन की पेंटिंग प्रदर्शनी लगाए जाएगी. (फाइल)

नई दिल्ली: महात्मा गांधी के 150वें जन्म दिवस के अवसर पर 'खादी एक्सप्रेस' चलाने की तैयारी की जा रही है. इस ट्रेन में 8 बोगी होगी. एक बोगी में महात्मा गांधी से जुड़े सामानों की प्रदर्शनी लगाई जाएगी. इस बोगी में महात्मा गांधी की जीवनी की पेंटिंग प्रदर्शनी लगाई जाएगी. इस ट्रेन का संचालन अगले दो महीने में किया जाएगा. जैसा कि हम सभी जानते हैं महात्मा गांधी को खादी के कपड़ों से बहुत लगाव था. बापू के खादी प्रेम को ध्यान में रखते हुए एक बोगी में खादी के सामानों की बिक्री की जाएगी.

जानकारी के मुताबिक, ट्रेन के सफर की शुरुआत गुजरात के पोरबंदर से शुरू होगी. पोरबंदर से चल कर यह ट्रेन साबरमती पहुंचेगी. उसके बाद अहमदाबाद, राजकोट, मुंबई, वर्धा समेत
यह ट्रेन हर उस जगह जाएगी जहां गांधीजी की यादें जुड़ी हुई हैं. स्वतंत्रता संग्राम के दौरान पूरे देश में गांधीजी ने पैदल यात्रा की थी. यह ट्रेन उन जगहों पर एक-दो दिनों के लिए रुकेगी जहां-जहां गांधीजी ने समय गुजारा था.

खादी एंड विलेज इंडस्ट्रीज कमीशन (KVIC) के चेयरमैन विनय कुमार सक्सेना ने कहा कि हम 20 स्टेशनों की यात्रा करने की तैयारी कर रहे हैं. देश के अलग-अलग कोने में जहां-जहां गांधीजी रुके थे और जहां-जहां ट्रेन यातायात की सुविधा है, वैसे 20 स्टेशनों का चुनाव कर ट्रेन की यात्रा शुरू होगी. इसको लेकर KVIC ने भारतीय रेलवे को चिट्ठी लिखी है.

KVIC चेयरमैन ने कहा कि 'खादी एक्सप्रेस' के एक बोगी में हम दिखाएंगे कि कैसे चरखा और स्पिनिंग व्हील की मदद से खादी कपड़ा तैयार किया जाता है. स्वदेशी आंदोलन के दौरान गांधीजी ने देश के लोगों को खादी कपड़ा बनाने की अपील की थी. इसके जरिए लोगों को स्वरोजगार के लिए प्रेरित किया गया था.