close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PMC मामला : किरीट सोमैया की EOW को चिट्ठी, दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग

बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (EOW) को चिट्ठी लिखकर एचडीआईएल (HDIL) और पीएमसी (PMC) के सीनियर अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई की मांग की. 

PMC मामला : किरीट सोमैया की EOW को चिट्ठी, दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग

नई दिल्ली : बीजेपी नेता किरीट सोमैया (kirit somaiya) ने मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (EOW) को चिट्ठी लिखकर एचडीआईएल (HDIL) और पीएमसी बैैंक (PMC) के सीनियर अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई की मांग की. बीजेपी नेता ने पंजाब एंड महाराष्ट्र बैंक के 9.12 लाख खाताधारकों का पैसा लूटने के आरोप में मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा को चिट्ठी लिखकर HDIL और PMC से संबंधित लोगों के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की है.

2018 में शुरू हो गया था डिफॉल्ट
किरीट सोमैया ने ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर राज वर्धने को लिखे पत्र में कहा सबको पता है कि HDIL में साल 2018 के मिड में विभिन्न भुगतान को लेकर डिफॉल्ट होना शुरू हो गया था. कंपनी अपना कर्ज, अग्रिम और एनसीडी का भुगतान नहीं कर पा रही थी. कई वित्तीय संस्थानों और बैंकों ने इसे लेकर कंपनी के खिलाफ कार्रवाई शुरू की. तब से अब तक HDIL के खिलाफ अलग-अलग स्तर पर कार्रवाई जारी है.

बेनामी कंपनी को दी गई रकम
उन्होंने लिखा कि 8000 करोड़ रुपये के एडवांस में से 3000 करोड़ से ज्यादा की रकम एचडीआईएल ग्रुप की बेनामी कंपनी को गई. लेकिन HDIL के डिफाल्टर होने के बावजूद PMC  ने कर्ज देना जारी रखा. यह सबकुछ अधिकारियों की मिलीभगत से हुआ है, क्योंकि HDIL के मालिक और PMC के चेयरमैन के रिश्ते सबको पता है. सोमैया ने सवाल किया कि बैंक के एमडी ने कैसे ये कर्ज देने की अनुमति दे दी.

यह वीडियो भी देखें:

9.12 लाख जमाकर्ताओं का पैसा फंसा
बैंक के इस कदम से पीएमसी के 9.12 लाख जमाकर्ताओं का पैसा फंस गया है. इसे लेकर बैंक मैनेजमेंट को संबंधित अधिकारियों और HDIL  के खिलाफ RBI को आपराधिक कार्रवाई शुरू करनी चाहिए. PMC और HDIL  के बीच पैसों का जो भी लेनदेन हुआ है इसकी पूरी जांच करने की जरूरत है.

गौरतलब है कि पैसों के संकट से बुरी तरह जूझ रहे PMC  के आर्थिक लेनदेन पर रिजर्व बैंक ने छह महीने तक रोक लगा दी है. इस दौरान डिपाजिटर्स छह महीने में सिर्फ 1000 रुपये ही निकाल सकते हैं. बैंक पर लगी इस रोक के चलते लोगों की जिंदगीभर की कमाई फंस गई है. हालांकि यह कहा जा रहा है कि बैंक अपना कामकाज फिर से शुरू करेगा लेकिन बुरी तरह घबराए डिपाजिटर्स बैंक का चक्कर लगा रहे हैं.