close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

क्या है सुकन्या समृद्धि योजना? एक इंवेस्टमेंट पर डबल बेनिफिट्स

इस स्कीम के तहत कम से कम 250 रुपये और अधिकतम कोई भी राशि जमा कर सकते हैं. इस तरह सुकन्या समृद्धि योजना में जमा करने पर पहला आपको टैक्स बेनिफिट मिलता है, साथ ही आपकी बेटी का भविष्य भी सुरक्षित होता है.

क्या है सुकन्या समृद्धि योजना? एक इंवेस्टमेंट पर डबल बेनिफिट्स
सुकन्या समृद्धि योजना के तहत पोस्ट ऑफिस और किसी भी बैंक में अकाउंट खुलवाया जा सकता है. (फाइल)

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ स्कीम के तहत सुकन्या समृद्धि योजना की शुरुआत की थी. इस योजना के तहत अगर बेटी की उम्र 10 साल से कम है तो उसके नाम पर बैंक अकाउंट खुलवा कर उसके भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं. इस योजना के तहत निवेश करने पर आपकी बेटी का भविष्य सुरक्षित होगा, जिसपर 8.1 फीसदी का ब्याज मिलता है. इसमें निवेश करने पर सेक्शन 80C के तहत टैक्स बेनिफिट्स भी मिलते हैं. इस स्कीम के तहत कम से कम 250 रुपये और अधिकतम कोई भी राशि जमा कर सकते हैं. इस तरह सुकन्या समृद्धि योजना में जमा करने पर पहला आपको टैक्स बेनिफिट मिलता है, साथ ही आपकी बेटी का भविष्य भी सुरक्षित होता है.

प्रमुख बातें.
1. सुकन्या समृद्धि योजना के तहत पोस्ट ऑफिस और किसी भी बैंक में अकाउंट खुलवाया जा सकता है.
2. यह अकाउंट 21 वर्षों के लिए या फिर जब तक लड़की की शादी नहीं हो जाती है तब तक ऑपरेटिव होगा.
3. 18 वर्ष के बाद उसकी पढ़ाई के लिए 50 फीसदी तक विदड्रॉल किया जा सकता है.
4. एक लड़की के नाम पर एक ही अकाउंट खुलवाया जा सकता है.
5. एक वित्त वर्ष में कम से कम इस अकाउंट में 250 रुपये और अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा किए जा सकते हैं.
6. इस अकाउंट पर 15 सालों तक पैसे जमा किए जा सकते हैं.
7. 15 सालों तक जमा करने के बाद 6 सालों के लिए इस अकाउंट में पैसे नहीं जमा किए जाते हैं. अकाउंट खोलने की तारीख के 21 सालों बाद यह मैच्योर होता है. अगर, उसकी शादी पहले हो जाती है, तो भी पूरे पैसे निकाले जा सकते हैं.
8. अगर किसी लड़की की शादी हो जाती है तो उसके नाम पर सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट ऑपरेट नहीं होगा.
9. NRI लड़की के नाम पर यह अकाउंट नहीं खुलवाया जा सकता है.
10. इस अकाउंट में जितना जमा किया जाता है उसका फायदा सेक्शन 80C के तहत उठाया जा सकता है. अकाउंट मैच्योर होने पर यह टैक्स फ्री है.