close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

क्या आप जानते हैं रेलवे के टिकट पर मिलती है 100 फीसदी तक छूट, लेकिन ये हैं शर्तें

5-12 साल के बच्चों के लिए आधा किराया लगता है. अगर उसके लिए सीट रिजर्व करवाते हैं तो पूरा किराया देना होगा.

क्या आप जानते हैं रेलवे के टिकट पर मिलती है 100 फीसदी तक छूट, लेकिन ये हैं शर्तें
फाइल फोटो

नई दिल्ली: अगर आप ट्रेन से सफर करते हैं और कभी ऐसा हुआ कि कोई बच्चा भी आपके साथ ट्रैवल करता है तो आपके दिमाग में यह आता होगा कि क्या उसके लिए भी टिकट लेना है? ऐसे में नियमों की जानकारी होना जरूरी है कि किस उम्र तक के बच्चों के लिए टिकट नहीं लगता है. साथ ही रिजर्वेशन के क्या नियम हैं. बता दें, पांच साल से  कम उम्र के बच्चों के लिए टिकट की जरूरत नहीं होती है. अगर बच्चे की उम्र 5 से 12 साल के बीच है तो उसका किराया आधा लगता है. 12 साल से ज्याद उम्र के बच्चों के लिए पूरा किराया देना होगा.

लेकिन, आप अगर चाहते हैं कि 5-12 साल के बच्चे के लिए बर्थ रिजर्व हो तो आपको पूरा किराया भरना होगा. वहीं, अनारक्षित श्रेणी में 5-12 साल के बच्चों का किराया आधा ही लगेगा. हालांकि, अगर टिकट आरक्षण के समय 5 साल से 12 साल के बच्चों के लिए अलग सीट नहीं मांगी जाती है तो उनके लिए आधा किराया ही लगता है. बता दें, रेलवे बच्चे और बुजुर्गों के अलावा कई अन्य लोगों को भी टिकट में छूट देता है. एक स्पेशल कैटेगरी है जिसमें 13 तरह के लोग आते हैं और उन्हें 100 फीसदी तक किराये में छूट मिलती है. इनमें से बुजुर्ग, दिव्यांग, गंभीर बीमार व्यक्ति, इन सभी को टिकट पर छूट उपलब्ध है.

इमरजेंसी में प्लेटफॉर्म टिकट पर कर सकते हैं ट्रेन में सफर, जानें क्या कहता है नियम

अगर कोई कैंसर से पीड़ित है तो उसे और उसके साथ जाने वाले एक शख्स को ट्रेन टिकट पर 50 से 100 फीसदी तक छूट मिलती है. कैंसर मरीज को फर्स्ट क्लास और एसी चेयर कार में 75 फीसदी, स्लीपर और थर्ड एसी में 100 फीसदी छूट और फर्स्ट, सेकंड एसी में 50 फीसदी छूट मिलती है. किन्नरों को टिकट में 40 फीसदी की छूट मिलती है. उन्हें जेंडर वाले कॉलम में M,F की जगह T भरना होगा.