close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मोदी की वापसी से पिछले रिकॉर्ड तोड़ देगा शेयर बाजार, इन सेक्टर्स में होगी अच्छी कमाई

प्रधानमंत्री मोदी को देश की जनता ने एक बार फिर सत्ता की चाभी सौंप दी है. इस बार भाजपा अपने दम पर 300 का आंकड़ा पर कर गई है, वहीं एनडीए 353 के बंपर आंकड़े पर पहुंच गई है. सीनियर एनालिस्ट अरुण केजरीवाल का अनुमान है कि आने वाले 10 दिन के अंदर ही सेंसेक्स 41,000 के आंकड़े को पार कर जाएगा.

मोदी की वापसी से पिछले रिकॉर्ड तोड़ देगा शेयर बाजार, इन सेक्टर्स में होगी अच्छी कमाई

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री मोदी को देश की जनता ने एक बार फिर सत्ता की चाभी सौंप दी है. इस बार भाजपा अपने दम पर 300 का आंकड़ा पर कर गई है, वहीं एनडीए 353 के बंपर आंकड़े पर पहुंच गई है. सीनियर एनालिस्ट अरुण केजरीवाल का अनुमान है कि आने वाले 10 दिन के अंदर ही सेंसेक्स 41,000 के आंकड़े को पार कर जाएगा. सेंसेक्स इससे भी आगे जा सकता है. निफ्टी ने गुरुवार को भी 12,000 का स्तर पार किया था. हालांकि यह ज्यादा देर तक नहीं रहा और कुछ देर बाद ही एनएसई 12,000 से नीचे आ गया. नई सरकार बनने के बाद उद्योग जगत को काफी उम्मीद है.

बजट में होने वाली घोषणाएं तय करेंगी बाजार की चाल
आने वाले समय में आरबीआई से ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद की जा रही है. जुलाई में बजट के दौरान अलग-अलग सेक्टरों के लिए सरकार की तरह से क्या घोषणाएं की जाती हैं, इस पर भी बाजार का भविष्य तय करेगा. इसके अलावा सरकार से रोजगार के मोर्चे पर काम करने की काफी उम्मीदें हैं. जानकारों का कहना है कि इस बार घरेलू मोर्चे के अलावा ट्रेड वार, क्रूड ऑयल की कीमत और यूएस फेड द्वारा कोई कठिन निर्णय शामिल हो सकते हैं. हालांकि विदेशी निवेशक निवेश को लेकर चिंतामुक्त हैं. मजबूत सरकार आने से निवेशकों का भरोसा बढ़ेगा.

इन सेक्टर्स में निवेश रहेगा फायदेमंद
जानकारों का कहना है कि आने वाले समय में कंज्यूमर सेक्टर में निवेश करने वालों को फायदा होगा. इसके अलावा कंजम्पशन सेक्टर, फाइनेंशियल सेक्टर और इंड​स्ट्रियल सेक्टर में भी पैसा लगाना भविष्य के हिसाब से अच्छा रहेगा. खास शेयर की बात करें तो एशियन पेंट्स, इंटरग्लोब एविएशन और अडानी पोर्ट में निवेश फायदेमंद रहेगा. बैंकिंग सेक्टर से बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं की जा सकती. हेल्थ केयर और आईटी भी निवेश के नजरिये से बहुत मुफीद साबित नहीं होंगे.