close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर, मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर ने पकड़ी रफ्तार

मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) मई में वृद्धि के साथ 52.7 अंक पर आ गया जो अप्रैल में 51.8 अंक पर था. यह पिछले तीन महीने में इस क्षेत्र में सबसे बेहतर वृद्धि को दर्शाता है.

अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर, मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर ने पकड़ी रफ्तार
गातार 22वां महीना है जब विनिर्माण पीएमआई 50 अंक से ऊपर रहा है. (फाइल)

नई दिल्ली: मांग में बढ़ोत्तरी के साथ कंपनियों के उत्पादन बढ़ाने से इस साल मई में देश में विनिर्माण (Manufacturing) गतिविधियों की रफ्तार में वृद्धि दर्ज की गयी. इससे क्षेत्र में रोजगार भी बढ़े हैं. सोमवार को जारी एक मासिक सर्वेक्षण में यह बात सामने आई. निक्की इंडिया मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) मई में वृद्धि के साथ 52.7 अंक पर आ गया जो अप्रैल में 51.8 अंक पर था. यह पिछले तीन महीने में इस क्षेत्र में सबसे बेहतर वृद्धि को दर्शाता है.

हालांकि यह लगातार 22वां महीना है जब विनिर्माण पीएमआई 50 अंक से ऊपर रहा है. पीएमआई का 50 अंक से ऊपर रहना विनिर्माण गतिविधियों में विस्तार और 50 अंक से नीचे रहना संकुचन को दर्शाता है. आईएचएस मार्किट की प्रधान अर्थशास्त्री और इस सर्वेक्षण रपट की लेखिका पॉलियाना डि लीमा ने कहा है, 'मांग बढ़ने के साथ मई में खाली हुई इन्वेंटरी को फिर से भरने के लिए भारतीय कंपनियों ने उत्पादन में बढ़ोत्तरी की है. इससे विनिर्माण गतिविधियां बढ़ी हैं.' 

वित्त वर्ष 2019 में राजकोषीय घाटा बढ़ा, खजाने को इतने लाख करोड़ का नुकसान

सर्वेक्षण के मुताबिक सामानों के उत्पादकों की धारणा मजबूत होने, नये ऑर्डर में ठोस बढ़ोत्तरी के दम पर क्षेत्र में रोजगार बढ़े हैं. इस सर्वेक्षण में कहा गया है, 'अप्रैल, 2018 में नौकरियों में लगातार इजाफा दर्ज किया गया है. फरवरी के बाद यह वृद्धि सबसे अधिक है.'