Breaking News
  • महाराष्‍ट्र के स्‍कूल-कॉलेज में मुस्लिमों को 5 फीसद आरक्षण देने की तैयारी
  • दिल्ली: शाहीन बाग समेत 8 सड़कें खोलने की मांग वाली याचिका पर HC ने केंद्र और दिल्ली सरकार को जारी किया नोटिस
  • कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल को सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम राहत. पटेल की एक हप्ते तक नहीं होगी गिरफ्तारी
  • दिल्ली हिंसा: स्वरा भास्कर, अमानतुल्लाह खान और अन्य पर मामला दर्ज करने की मांग, HC ने पुलिस, राज्‍य सरकार को भेजा नोटिस
  • AAP पार्षद ताहिर हुसैन के घर पहुंची फोरेंसिक टीम

भारत में स्मार्ट शहर उद्यमियों को धन उपलब्ध कराएगी माइक्रोसॉफ्ट

प्रौद्योगिकी कंपनी माइक्रोसाफ्ट के प्रमुख सत्य नाडेला का कहना है कि कंपनी भारत के स्मार्ट शहरों में नयी पीढ़ी के सैकड़ों उद्यमियों को धन उपलब्ध कराएगी। वह देश में, विशेषकर आनलाइन खुदरा कारोबार (ईकामर्स) क्षेत्र में स्टार्टअप संस्कृति से बहुत प्रभावित हुए हैं। हैदराबाद में जन्में नाडेला ने बाद में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि कंपनी ‘का प्रयास यही रहता है कि हर नागरिक, हर कंपनी व हर सरकारी संगठन अधिक से अधिक चीजें हासिल कर सके।’

मुंबई: प्रौद्योगिकी कंपनी माइक्रोसाफ्ट के प्रमुख सत्य नाडेला का कहना है कि कंपनी भारत के स्मार्ट शहरों में नयी पीढ़ी के सैकड़ों उद्यमियों को धन उपलब्ध कराएगी। वह देश में, विशेषकर आनलाइन खुदरा कारोबार (ईकामर्स) क्षेत्र में स्टार्टअप संस्कृति से बहुत प्रभावित हुए हैं। हैदराबाद में जन्में नाडेला ने बाद में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि कंपनी ‘का प्रयास यही रहता है कि हर नागरिक, हर कंपनी व हर सरकारी संगठन अधिक से अधिक चीजें हासिल कर सके।’

नाडेला ने कहा कि कंपनी ने पुणे, मुंबई व चेन्नई में तीन डेटा सेंटर 12 महीने पहले खोले थे और वह देश में क्लाउड कंप्यूटिंग को अपनाने के स्तर को लेकर बहुत प्रभावित हैं। इसके साथ ही कंपनी ने कहा है कि वह अपने नये फोन माइक्रोसाफ्ट लूमिया 950 व 950 एक्सएल को दिसंबर तथा टैबलेट माइक्रोसाफ्ट सरफेस प्रो 4 को जनवरी में पेश करेगी। उन्होंने कहा कि ईमेल और मोबाइल फोन की सुरक्षा को लेकर बढ़ रही चिंताओं के बीच माइक्रोसाफ्ट प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करने वालों को पासवर्ड की चिंता से निजात दिलाने पर काम कर रही है।

नाडेला ने यहां कहा, ‘‘ सुरक्षा के सबसे बड़े मुद्दों में से एक मुद्दा पासवर्ड है। हम एक ऐसी व्यवस्था पर काम कर रहे हैं जहां पासवर्ड ऐसी चीज नहीं रह जाएगी जिसके बल पर कोई आपका सिस्टम हैक कर ले, बल्कि आपके पास अन्य बायोमीट्रिक्स होंगे जो आपको सुरक्षा में मदद करेंगे।’’