PM मोदी ने किया और अधिक आर्थिक सुधार, निवेश-अनुकूल नीति का वादा

आम बजट से पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आर्थिक नीतियों में और अधिक सुधार का भरोसा दिया और कहा कि देश में निवेशकों, खासकर बाहरी निवेशकों का लाल कालीन पर स्वागत किया जाएगा।

PM मोदी ने किया और अधिक आर्थिक सुधार, निवेश-अनुकूल नीति का वादा

पुणे : आम बजट से पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आर्थिक नीतियों में और अधिक सुधार का भरोसा दिया और कहा कि देश में निवेशकों, खासकर बाहरी निवेशकों का लाल कालीन पर स्वागत किया जाएगा।

मोदी ने वैश्विक निवेशकों को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित करते हुये कहा कि वे देश में बड़ी संख्या में प्रतिभावान युवा शक्ति का फायदा उठा सकते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैं उन सभी लोगों को आमंत्रित करता हूं, जो हमारे देश के आर्थिक विकास में भागीदार बनना चाहते हैं और हमारे युवकों के लिए रोजगार के अवसर सृजित करने में सहायक बनना चाहते हैं। आपकी (निवेशकों की) वृद्धि से हमारी वृद्धि भी जुड़ी हुयी है।’ मोदी ने कंपनी जगत के चुनिंदा लोगों की सभा का संबोधित करते हुये कहा, ‘यह विश्व में प्रतिस्पर्धा का युग है। मैं दुनिया भर की कंपनियों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि भारत ऐसी जगह है जहां वह ऐसी प्रतिभायें पाएंगे, जो उन्हें बहुत ही प्रतिस्पर्धी सामान बनाने में मदद करेगी।’ प्रधानमंत्री यहां चाकन में अमेरिकी इंजीनियरिंग कंपनी जीई की एक नयी विनिर्माण सुविधा का उद्घाटन कर रहे थे।

प्रधानमंत्री ने निवेशकों से भारत में बड़ी संख्या में मौजूद शिक्षित युवा आबादी का उपयोग करने का आह्वान करते हुये कहा, ‘हमारा युवा आबादी का अनुपात सबसे ऊंचा है। हमारी 65 प्रतिशत जनसंख्या 35 साल से कम आयु की है। हमारे प्रतिभावान युवक पूरी दुनिया से निवेश आकषिर्त करने की शक्ति रखते हैं। हमारा कौशल भी निवेशकों को आकषिर्त करने वाला है।’ मोदी ने भरोसा दिलाया कि उनकी सरकार देश में कारोबार का वातावरण आसान बनाएगी। इसी संदर्भ में उन्होंने कहा कि होटल उद्यम स्थापित करने के लिए इस समय 110 मंजूरी लेनी पड़ती है, इसे घटाकर करीब 20 पर सीमित किया जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘हमारी सरकार ने भरोसा दिया है कि नियम, प्रक्रिया और नीतियों को भरोसेमंद बनाया जाएगा और हमने व्यवसाय की आसानी के लिए कई कदम उठाये हैं।’ भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में केन्द्र की राजग सरकार अपना पहला पूर्ण बजट इसी माह 28 तारीख को पेश करेगी। हाल में दिल्ली विधानसभा के चुनाव में भाजपा की हार के बाद कुछ विश्लेषकों ने बजट को सुधारवादी होने के प्रति आशंकाएं प्रकट की हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा, यहां वैश्विक स्तर पर काम करने वाली अमेरिकी इंजीनियरिंग कंपनी जीई के नये कारखाने का उद्घाटन करते हुये कहा, ‘भारत आज दुनिया की सबसे तेजी से वृद्धि कर रही अर्थव्यवस्था है और इसकी वृद्धि दर 7.4 प्रतिशत है।’ उन्होंने कहा कि हमें वृद्धि के आधार को मजबूत बनाना है और हम विनिर्माण, कृषि और सेवा इन तीन क्षेत्रों पर ध्यान दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि भारत में विनिर्माण क्षेत्र मे जबर्दस्त अवसर उपलब्ध हैं।

मोदी ने कहा, ‘मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि विकास और रोजगार देने के क्षेत्र में भारत में बहुत ज्यादा अवसर मौजूद हैं।’ उन्होंने कहा कि सरकार नीतियों को पूरी तरह भरोसमंद बनाने की कोशिश कर रही है ताकि निवेशक आकर्षित हों। उन्होंने कहा कि वह सुशासन में विश्वास करते हैं क्योंकि सुशासन से ही विकास हो सकता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार भी अपने राज्य में व्यवसाय के अवसर तलाशने वाले उद्यमियों के लिए कारोबार आसान बनाने के उपायों पर ध्यान दे रही है। उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की पिछले महीने की भारत यात्रा का उल्लेख करते हुये कहा, कि होटल उद्योग के लोगों ने इस क्षेत्र में परियोजनाओं की मंजूरी के लिए तमाम औपचारिकताओं पर चिंता जतायी थी, जबकि वे भारत में निवेश करने के इच्छुक हैं। मोदी ने कहा, ‘आतिथ्य (होटल) क्षेत्र में मंजूरियों की संख्या 110 से घटाकर 20 पर सीमित की जा रही है।’

प्रधानमंत्री ने जीई और अन्य वैश्विक कंपनियों को भारत के जहाज निर्माण क्षेत्र में भी निवेश करने के लिए आमंत्रित किया और कहा कि इस क्षेत्र में निवेशकों के लिए भारी अवसर हैं। उन्होंने जीई और अन्य वैश्विक कंपनियों को रक्षा क्षेत्र में भी निवेश के लिए आमंत्रित करते हुये कहा कि इस क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की सीमा बढ़ाकर 49 प्रतिशत कर दी गयी है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत विनिर्माण क्षेत्र में और आगे बढ़ना चाहता है। जीई का कारखाना यहां चाकन औद्योगिक क्षेत्र में स्थापित किया गया है और यह मल्टी मॉडल विनिर्माण परियोजना है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि सरकार रेलवे क्षेत्र का विकास देखना चाहती है क्योंकि इसे भारतीय अर्थव्यवस्था की बडी ताकत बनाया जा सकता है। मोदी ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि भारत में रेलवे क्षेत्र का विकास हो, इसमें और अधिक प्रौद्योगिकी आये, इसको गति मिले और यह भारतीय अर्थवस्था को और अधिक गति देने वाली शक्ति बने।’ मोदी ने आर्थिक सुधारों के प्रति अपनी सरकार की प्रतिबद्धता दोहराते हुये कहा कि उनकी सरकार ने दुनियाभर से निवेश आकषिर्त करने के लिए पिछले महीने ही कई सुधारवादी कदम उठाये हैं। उन्होंने कहा कि मेरा दृढ़ विश्वास है कि 21वीं शताब्दी एशिया की है और इसमें भारत महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

उन्होंने कहा, ‘मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि विकास और रोजगार देने के क्षेत्र में भारत में बहुत ज्यादा अवसर मौजूद हैं।’ उन्होंने कहा कि सरकार नीतियों को पूरी तरह भरोसमंद बनाने की कोशिश कर रही है ताकि निवेशक आकर्षित हों। उन्होंने कहा कि वह सुशासन में विश्वास करते हैं क्योंकि सुशासन से ही विकास हो सकता है।

मोदी ने चाकन में नया कारखाना लगाने के लिए जीई को बधाई दी और कहा कि इससे भारत में विनिर्माण क्षेत्र के विस्तार के लिए उनकी सरकार के महत्वाकांक्षी ‘मेक इन इंडिया’ अभियान को बल मिलेगा। भारत की अर्थव्यवस्था में विनिर्माण क्षेत्र का योगदान अभी 16 प्रतिशत से कम है। पिछली सरकार ने 2020 तक इसे 25 प्रतिशत करने का लक्ष्य रखा था।

रेलवे के विकास के बारे में उन्होंने कहा कि भारत का रेलवे नेटवर्क दुनिया का सबसे बड़े नेटवर्को में है और यह भारत की आर्थिक वृद्धि ताकत बन सकता है। उन्होंने कहा, मं रेलवे के क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर देखना चाहता हूं और इस क्षेत्र में की प्रौद्योगिकी में सुधार चाहता हूं। यह क्षेत्र भारतीय अर्थव्यवस्था की ताकत बन सकता है।