close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

4 जुलाई से उड़ान भरेगी हज यात्रियों की पहली फ्लाइट, 48 फीसदी महिलाएं

 इन हज यात्रियों में 1 लाख 40 हजार हज यात्री हज कमेटी ऑफ इंडिया और 60 हजार हज यात्री हज ग्रुप ऑर्गनाइजर (एचजीओ) के जरिये हज पर जायेंगे. 

4 जुलाई से उड़ान भरेगी हज यात्रियों की पहली फ्लाइट, 48 फीसदी महिलाएं
हज समूह आयोजकों को भी 10 हजार हज यात्रियों को हज कमेटी ऑफ इंडिया के निर्धारित पैकेज पर ही ले जाना होगा. (फाइल)

नई दिल्ली: इस साल यानी 2019 में भारत के हज यात्रियों की पहली फ्लाइट दिल्ली से 4 जुलाई को उड़ान भरने जा रही है. अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की तरफ से जानकारी दी गई है कि इस साल देश भर के 21 हवाई अड्डों से 500 से ज्यादा फ्लाइटों के जरिये रिकॉर्ड 2 लाख भारतीय मुसलमान बिना किसी सब्सिडी के हज पर जायेंगे. इन हज यात्रियों में 1 लाख 40 हजार हज यात्री हज कमेटी ऑफ इंडिया और 60 हजार हज यात्री हज ग्रुप ऑर्गनाइजर (एचजीओ) के जरिये हज पर जायेंगे. हज समूह आयोजकों को भी 10 हजार हज यात्रियों को हज कमेटी ऑफ इंडिया के निर्धारित पैकेज पर ही ले जाना होगा. 04 जुलाई को दिल्ली, गया, गुवाहाटी, श्रीनगर से फ्लाइट्स जाना शुरू होंगी. इसके अलावा बंगलुरु और कालीकट से 07 जुलाई, हैदराबाद 26 जुलाई, जयपुर 20 जुलाई, और कोलकाता में 25 जुलाई से हज यात्री इस पवित्र यात्रा पर जा सकेंगे. 

हज यात्रियों को किसी की दिकक्त ना आए इसको लेकर दिल्ली में हज पर जाने वाले सरकारी डॉक्टर्स के अलावा हज असिस्टेंट समेत सभी सरकारी कर्मचारियों की एक ट्रेनिंग भी रखी गई जो दो दिनों तक चलेगी. इस ट्रेनिंग में आज केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास पहुंचे. इस दौरान नकवी ने कहा कि 2019 में 2 लाख भारतीय मुसलमान बिना किसी सब्सिडी के हज यात्रा करेंगे. मोदी सरकार ने हज सब्सिडी के “छल” को “ईमानदारी के बल” से खत्म किया है.

नकवी ने कहा कि हज यात्रियों की सुरक्षा और बेहतर सुविधा सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार ने प्रभावी कदम उठाये हैं और इस विषय पर कोई लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी. हज 2019 पर जाने वाले हज यात्रियों की सहायता के लिए 620 हज कोर्डिनेटर, असिस्टेंट हज अफसर, हज असिस्टेंट, डॉक्टर, पारा-मेडिक आदि की सऊदी अरब में नियुक्ति की गई है जिसमे बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हैं. 

नकवी ने ये भी जानकारी दी कि इस साल बिना मेहरम (पुरुष रिश्तेदार) के हज यात्रा पर जाने वाली महिलाओं की संख्या पिछले वर्ष के मुकाबले दोगुनी होगी. इस वर्ष 2340 महिलाएं बिना मेहरम के हज पर जा रही हैं जबकि पिछले वर्ष यह संख्या 1180 थी. पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी बिना मेहरम के हज पर जाने के लिए आवेदन करने वाली इन सभी महिलाओं को बिना लाटरी के हज यात्रा पर जाने की व्यवस्था की गई है. इसके अतिरिक्त भारत से जाने वाले 2 लाख हज यात्रियों में लगभग 48 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं.