close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोर्ट से भी Jet Airways को लगा झटका, एयरलाइन को बचाने की याचिका पर कहा...

एक याचिका पर सुनवाई करते हुए मुंबई हाईकोर्ट ने कहा कि बीमारू कंपनी को बचाने के लिए सरकार और रिजर्व बैंक को निर्देश नहीं दिया जा सकता है.

कोर्ट से भी Jet Airways को लगा झटका, एयरलाइन को बचाने की याचिका पर कहा...
जेट को तत्काल 400 करोड़ की जरूरत थी, नहीं मिलने पर गुरुवार से परिचालन पूरी तरह ठप हो गया. (फाइल)

मुंबई: बंबई उच्च कोर्ट ने गुरुवार को वित्तीय संकट से जूझ रही जेट एयरवेज के मामले में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया. कोर्ट ने कहा कि वह एक " बीमारू कंपनी " को बचाने के लिए सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक को निर्देश नहीं दे सकता है. बंबई उच्च कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश प्रदीप नंदराजोग और न्यायमूर्ति एनएम जमदार की पीठ ने उस रिट याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें सरकार और केंद्रीय बैंक से बैंकों की समिति को जेट एयरवेज की मदद करने का निर्देश देने की मांग की गई थी. 

वकील मैथ्यू नेदुम्परा ने अपनी रिट याचिका में सरकार और आरबीआई को यह निर्देश देने की मांग की थी कि एयरलाइन कंपनी के लिए संभावित निवेशकों की पहचान होने तक जेट का दोबारा परिचालन सुनिश्चित किया जाए. याचिकाकर्ता ने कहा कि एयरलाइन एक "जरूरी सेवा" है और इसे देखते हुए कोर्ट को बैकों की समिति को परिचालन फिर से शुरू करने के लिए जेट को जरूरी न्यूनतम ऋण सहायता प्रदान करने का निर्देश देना चाहिए. 

Jet Airways के लिए राहत की खबर, एयर इंडिया ने विमानों को पट्टे पर लेने की इच्छा जताई

हालांकि, पीठ ने कहा कि वह सरकार या रिजर्व बैंक को बीमारू कंपनी के लिए पूंजी जारी करने के लिए नहीं कह सकता. कोर्ट ने कहा , " हम सरकार से एक बीमार कंपनी को बचाने के लिए नहीं कह सकते हैं. हम जो कर सकते हैं वह यह है कि यदि आपके पास कोई टोपी है तो हम दान पाने के लिए इसे पूरे कोर्टरूम में घुमा सकते हैं. " अदालत ने याचिका को खारिज करते हुए याचिकाकर्ता को राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) का दरवाजा खटखटाने की सलाह दी है. 

जब फूट-फूट कर रोए Jet Airways के क्रू मेंबर्स, कहा- 'हमें और हमारे परिवार को बचा लो'

 

उल्लेखनीय है कि जेट एयरवेज ने बुधवार मध्यरात्रि से अपने परिचालन को अस्थायी तौर पर रोक दिया है. उसकी अंतिम उड़ान अमृतसर से रवाना हुई थी. जेट एयरवेज पिछले पांच साल में बंद होने वाली सातवीं एयरलाइन कंपनी है. जेट एयरवेज ने बैंकों के समूह से 400 करोड़ रुपये की त्वरित ऋण सहायता उपलब्ध कराने की मांग की थी, जिसे देने से बैंकों की समिति ने इनकार कर दिया. कंपनी पर पहले से ही 8,500 करोड़ रुपये का कर्ज है.