close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हांगकांग में भी छाया 'मैं भी चौकीदार', 'NAMO' रेस्टोरेंट में मोदी की जीत का जश्न

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का आलम देश में ही नहीं है, बल्कि विदेशों में भी है. लोकसभा चुनावों में मिली शानदार जीत का जश्न भारत ही नहीं दुनिया के कई देशों में मनाया जा रहा है.

हांगकांग में भी छाया 'मैं भी चौकीदार', 'NAMO' रेस्टोरेंट में मोदी की जीत का जश्न

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का आलम देश में ही नहीं है, बल्कि विदेशों में भी है. लोकसभा चुनावों में मिली शानदार जीत का जश्न भारत ही नहीं दुनिया के कई देशों में मनाया जा रहा है. हांगकांग में तो नरेंद्र मोदी के नाम पर 'नमो रेस्टोरेंट' और मोदी सड़क (Modi Road) भी है. 'नमो' रेस्टोरेंट में लोग 'मैं भी चौकीदार' स्लोगन की टीशर्ट पहकर पीएम मोदी की जीत का जश्न मना रहे हैं. 23 मई को आए लोकसभा चुनावों के नतीजों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने एतिहासिक जीत हासिल की है. इस जीत के साथ ही पीएम मोदी दूसरी बार भारत के प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं. उनकी इस जीत पर भारत ही नहीं विदेशों में भी खुशी का माहौल है.

'मैं भी चौकीदार' की धूम
हांगकांग में पीएम मोदी के नाम पर एक 'नमो रेस्टोरेंट' हैं. 23 मई से लेकर अब तक इस रेस्टोरेंट में पीएम मोदी की जीत का जश्न मनाया जा रहा है. उनके नाम से विशेष डिश बनाई जा रही हैं. यहां रहने वाले भारतीय भी 'नमो रेस्टोरेंट' आकर पीएम मोदी की जीत का जश्न मना रहे हैं. यहां का स्टाफ 'मैं भी चौकीदार' के स्लोगन वाली टीशर्ट पहकर ग्राहकों का स्वागत और सेवा कर रहे हैं.

2013 में खोला Namo रेस्टोरेंट
'नमो रेस्टोरेंट' के मालिक राजू सबनानी एक भारतीय हैं. उन्होंने बताया, 'मैं पिछले 15 वर्षों से नरेंद्र मोदी का फैन हूं. वे करीब 15 वर्ष पहले हांगकांग आए थे, तब मैं उनसे मिला था. पहली मुलाकात में ही मैं उनसे बहुत प्रभावित हुआ. क्योंकि अपने देश के प्रति समर्पण और प्यार जो उनके अंदर देखने को मिला, वह किसी और नेता में दिखाई नहीं देता. वह यहां गुजरात को प्रमोट करने के लिए आए थे.'

राजू सबनानी ने बताया, '2013 में जब मैं रेस्टोरेंट खोलने की प्लानिंग कर रहा था, उस समय नरेंद्र मोदी 'नमो' के नाम से प्रसिद्ध होने लगे थे. तब मैंने फैसला किया कि रेस्टोरेंट खोलूंगा तो नरेंद्र मोदी के ही नाम से. तभी हमनें 'नमो' नाम से रेस्टोरेंट की शुरुआत की.'