close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

निर्मला सीतारमण का मनमोहन सिंह पर पलटवार, कहा-गलत चीज को याद करना जरूरी

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की तरफ से मोदी सरकार पर निशाना साधे जाने के बाद अब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पलटवार किया है. वित्त मंत्री ने कहा 'मैं आरोप-प्रत्यारोप में नहीं उलझने के लिए कहने पर मनमोहन सिंह जी का सम्मान करती हूं, लेकिन किसी बात को समझाने के लिए खास अवधि का जिक्र करना जरूरी होता है.

निर्मला सीतारमण का मनमोहन सिंह पर पलटवार, कहा-गलत चीज को याद करना जरूरी

नई दिल्ली : पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) की तरफ से मोदी सरकार पर निशाना साधे जाने के बाद अब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पलटवार किया है. वित्त मंत्री ने कहा 'मैं आरोप-प्रत्यारोप में नहीं उलझने के लिए कहने पर मनमोहन सिंह जी का सम्मान करती हूं, लेकिन किसी बात को समझाने के लिए खास अवधि का जिक्र करना जरूरी होता है. उन्होंने यह पलटवार मनमोहन सिंह के उस बयान के बाद किया जिसमें कहा गया थ कि सरकार समाधान ढूंढने की बजाय अपने विरोधियों पर दोष मढ़ने की कोशिश करती है.

अर्थव्यवस्था को तेजी से विकसित करने की कोशिश
वित्त मंत्री ने कहा भारत दुनिया की सबसे तेजी से विकसित हो रही अर्थव्यवस्थाओं में से एक है. भारतीय अर्थव्यवस्था को तेजी से विकसित करने की कोशिश की जा रही है. उन्होंने कहा आईएमएफ की हालिया रिपोर्ट में भी भारत और चीन दोनों की विकास दर 6.1 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया है. आपको बता दें आईएमएफ ने दुनिया की सभी अर्थव्यवस्थाओं के लिए विकास दर के अनुमान को कम कर दिया है.

सरकार की आर्थिक नीतियों पर बोला था हमला
इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने गुरुवार को मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों पर हमला बोलते हुए कहा था कि अगर हमारी सरकार से बैंकिंग के क्षेत्र में कुछ गलतियां हुई हैं तो फिर मोदी सरकार को उससे सीखना चाहिए था. यह मनमोहन सिंह ने तब कहा जब कुछ दिन वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक (PMC Bank) के संकट के लिए मनमोहन सरकार को जिम्मेदार है.

मनमोहन सिंह ने यह भी कहा कि सरकार समाधान तलाशने की बजाय विपक्षियों पर आरोप लगाने की आदत से मजबूर है. पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि अर्थव्यवस्था में सुधार करने के लिए असली दिक्कतों और वजहों का पता लगाना जरूरी है. सरकारी की उदासीनता के कारण देश के लोगों की महत्वाकांक्षाएं और भविष्य प्रभावित हो रहा है.