close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जेट एयरवेज के अच्छे दिन लौटने की राह लंबी, ये है इसका अहम कारण

वित्तीय संकट से जूझने के बाद जेट एयरवेज (Jet Airways) का परिचालन पिछले दिनों अस्थायी रूप से बंद हो गया. हालांकि जेट एयरवेज में काम करने वाले कर्मचारियों को अभी भी कुछ अच्छा होने की उम्मीद है.

जेट एयरवेज के अच्छे दिन लौटने की राह लंबी, ये है इसका अहम कारण

नई दिल्ली : वित्तीय संकट से जूझने के बाद जेट एयरवेज (Jet Airways) का परिचालन पिछले दिनों अस्थायी रूप से बंद हो गया. हालांकि जेट एयरवेज में काम करने वाले कर्मचारियों को अभी भी कुछ अच्छा होने की उम्मीद है. जेट एयरवेज के अच्छे दिनों के लौटने की राह काफी लंबी रह सकती है. इसका प्रमुख कारण यह है कि वक्त के साथ एयरलाइन के वापिस जल्द टेक ऑफ करने की संभावनाएं कमजोर होती जा रही है. इसकी सबसे बड़ी वजह है, जेट एयरवेज का साथ छोड़ते उसके कर्मचारी.

एयर इंडिया ने 150 केबिन क्रू को हायर किया
सूत्रों की माने तो ताजा डेवलपमेंट के तहत एयर इंडिया ने जेट एयरवेज के 150 केबिन क्रू को हायर किया है. यही नहीं, एक तरफ जहां एयर इंडिया को 70 पायलट की जरूरत है. साथ ही जेट एयरवेज के बड़ी संख्या में पायलट एयर इंडिया में इंटरव्यू दे रहे हैं. माना जा रहा है कि चुनाव के बाद नीतिगत बदलाव कर जेट के पायलट एयर इंडिया का विमान उड़ाते नजर आये. इसके पहले विस्तारा एयरलाइन्स ने भी जेट एयरवेज के 100 पायलट और 400 केबिन क्रू को अपनी एयरलाइन में जल्द शामिल करने जा रही है.

इंडिगो ने 500 लोगों को नौकरी दी
जेट एयरलाइन के पायलट और अन्य स्टॉफ को अपनी ओर खींचने में spicejet एयरलाइन भी पीछे नहीं है. Spicejet airline तो बाकायदा एक के बाद एक ताबड़तोड़ भर्तियां कर रही है. पिछले हफ्ते ही spicejet ने जेट एयरवेज के 1000 लोगों को अपने यहां शामिल किया जिसमें करीब 200 पायलट हैं. इंडिगो एयरलाइन की तरफ से भी लगातार भर्तियां की जा रही हैं. इंडिगो एयरलाइन ने भी अब तक तकरीबन 500 जेट कर्मचारियों को नौकरी दी है.

इस तरह से बड़ी संख्या में केबिन क्रू, पायलट और अन्य स्टॉफ जेट एयरवेज का साथ छोड़ रहे हैं, उससे साफ है कि जेट एयरवेज के वापिस आसमान में उड़ने का ख्वाब अभी कोसों दूर है.