GDP आंकड़े पर विपक्ष की हायतौबा, PMO अफसर बोले- 'हम 5 ट्रिलियन $ की अर्थव्यवस्था की राह पर'

जीडीपी के नए आंकड़े पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत विपक्ष के तमाम नेता केंद्र सरकार को निशाने पर ले रहे हैं. इसी बीच प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव प्रमोद कुमार मिश्रा ने शुक्रवार को कहा कि हम 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था वाला राष्ट्र बनने की ओर अग्रसर हैं.

GDP आंकड़े पर विपक्ष की हायतौबा, PMO अफसर बोले- 'हम 5 ट्रिलियन $ की अर्थव्यवस्था की राह पर'
प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव प्रमोद कुमार मिश्रा.

भुवनेश्वर: भारत सरकार ने शुक्रवार को सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की दूसरी तिमाही के आंकड़े जारी किए. देश की जीडीपी घटकर 4.5% पहुंच गई है. जीडीपी के आंकड़े 4.5% पिछले 6 साल में सबसे कम स्तर पर है. इसपर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत विपक्ष के तमाम नेता केंद्र सरकार को निशाने पर ले रहे हैं. इसी बीच प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव प्रमोद कुमार मिश्रा ने शुक्रवार को कहा कि हम 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था वाला राष्ट्र बनने की ओर अग्रसर हैं. 

प्रमोद मिश्रा ने कहा कि सरकार 2024 तक देश को पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को साकार करने की राह पर है. मिश्रा ने कहा, 'हमारे प्रधानमंत्री के न्यू इंडिया के दृष्टिकोण के मद्देनजर बेशुमार पहल की जा रही है! खास तौर से आर्थिक मोर्चे पर उन्होंने 2024 तक पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का लक्ष्य रखा है. यह एक महत्वाकांक्षी आकांक्षा है, हम उस राह पर हैं और उसे पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.' वह संबलपुर में संबलपुर विश्वविद्यालय के 30वें दीक्षांत को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा, '2014 से 2019 की अवधि के दौरान, हमारी वार्षिक औसत जीडीपी विकास दर 7.5 फीसदी थी, जो आजादी के बाद सबसे अधिक थी. यह जी20 देशों में भी सबसे अधिक थी.' मिश्रा ने कहा कि बीते पांच सालों के दौरान मैक्रोइकोनॉमिक स्थिरता के आधार पर ही विभिन्न सुधार किए गए हैं.

इससे पहले ताजा जीडीपी आंकड़े पर पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने कहा है कि हमारी अर्थव्यवस्था की स्थिति चिंताजनक हालत में पहुंच चुकी है. उन्होंने कहा कि हमारे समाज की स्थिति और भी चिंताजनक है. उन्होंने कहा कि हमें अपनी अर्थव्यवस्था में मौजूदा भय को खत्म करना होगा. आत्मविश्वास पैदा करने की जरूरत है कि हमारी अर्थव्यवस्था 8% की रफ्तार से बढ़ेगी. अर्थव्यवस्था की स्थिति अपने समाज की स्थिति का प्रतिबिंब है. फिलहाल सामाजिक भरोसे का ताना-बाना टूट गया है, जिसे जोड़ने की जरूरत है.

इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि असफल मोदीनॉमिक्स और पकोड़ा इकोनॉमिक विजन ने भारतीय अर्थव्यवस्था को गहरे आर्थिक मंदी में डुबो दिया है.

ये भी देखें-: