बदल जाएगा LPG Cylinder की होम डिलीवरी का तरीका, 1 नवंबर से लागू होगा नया सिस्टम

अगले महीने से एलपीजी सिलेंडर की डिलीवरी का नया सिस्टम लागू होगा. ऐसे में अगर आप भी घर बैठे सिलेंडर मंगवाते हैं तो यह खबर आपके लिए पढ़ना जरूरी है.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Oct 22, 2020, 08:10 AM IST

नई दिल्ली: रसोई गैस सिलेंडर (LPG Cylinder) की होम डिलीवरी (Home Delivery) में एक बार फिर बदलाव होने जा रहा है. जानकारी के अनुसार, अब सिर्फ फोन पर ऑर्डर बुक करने से ही सिलेंडर की डिलीवरी नहीं होगी. सरकारी ऑयल कंपनियां नवंबर माह से डिलीवरी का नया सिस्टम लागू करने जा रही हैं. ऐसे में अगर आप भी घर बैठे सिलेंडर मंगवाते हैं तो यह खबर आपके लिए पढ़ना जरूरी है.

1/4

इस कारण लिया फैसला

सूत्रों के मुताबिक, यह कदम सिलेंडर से चोरी होने वाली गैस, सिलेंडर चोरी रोकने और सही कस्टमर की पहचान के लिए लागू किया जा रहा है. तेल कंपनियां LPG सिलेंडर का नया डिलीवरी सिस्टम लागू करने वाली हैं. इस सिस्टम में अब सिर्फ बुकिंग कराने भर से काम नहीं चलेगा.

2/4

क्या होगा नया सिस्टम?

सूत्रों की मानें तो तेल कंपनियों ने नए सिस्टम को डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड (DAC) से जोड़ने का प्लान बनाया है. इसमें सिलेंडर की बुकिंग कराने पर आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक कोड आएगा. यह कोड सिलेंडर की डिलीवरी के वक्त डिलीवरी ब्वॉय को देना होगा. जब तक यह कोड नहीं दिखाएंगे तब तक डिलीवरी पूरी नहीं होगी और स्टेट्स पेंडिंग में ही रहेगा.

3/4

मोबाइल नंबर भी होगा अपडेट

अगर आपका मोबाइल नंबर गैस विक्रेता एजेंसी के पास रजिस्टर्ड नहीं है या फिर नंबर बदल गया है तो डिलीवरी के ही आप इसे अपडेट करा पाएंगे. इसके लिए डिलीवरी ब्वॉय को एक ऐप की सुविधा दी जाएगी. डिलीवरी के वक्त आप उस ऐप की मदद से अपना मोबाइल नंबर डिलीवरी ब्वॉय को अपडेट करा सकते हैं. ऐप के जरिए रियल टाइम बेसिस पर मोबाइल नंबर अपडेट हो जाएगा. इसके बाद उसी नंबर से कोड भी जेनरेट करने की सुविधा होगी.

4/4

स्मार्ट सिटी में लागू होगा सिस्टम

तेल कंपनियां इस नए डिलीवरी सिस्टम को सबसे पहले 100 स्मार्ट सिटी में लागू करेंगी. यह पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर होगा. धीरे-धीरे देश के दूसरे हिस्सों में भी यही सिस्टम लागू किया जाएगा. मौजूदा वक्त में दो शहरों में यही सिस्टम पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर चल रहा है. नया सिस्टम सिर्फ घरेलू रसोई गैस सिलेंडर पर ही लागू होगा. कमर्शियल सिलेंडर को इससे बाहर रखा गया है.