close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कॉरपोरेट टैक्स घटाना ऐतिहासिक, मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा : पीएम मोदी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के तरफ से कॉरपोरेट टैक्स में कटौती करने के फैसले की उद्योग जगत से लेकर सभी जगह तारीफ हो रही है. शेयर बाजार ने भी उनके इस फैसले को जमकर सराहा है और सेंसेक्स व निफ्टी रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गए हैं.

कॉरपोरेट टैक्स घटाना ऐतिहासिक, मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा : पीएम मोदी

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के तरफ से कॉरपोरेट टैक्स में कटौती करने के फैसले की उद्योग जगत से लेकर सभी जगह तारीफ हो रही है. शेयर बाजार ने भी उनके इस फैसले को जमकर सराहा है और सेंसेक्स व निफ्टी रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गए हैं. फाइनेंस मिनिस्टर की तरफ से की गई घोषणा की प्रधानमंत्री मोदी ने प्रशंसा करते हुए ट्वीट किया 'कॉपोरेट टैक्स घटाना ऐतिहासिक निर्णय है, इससे मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा (#MakeInIndia). पीएम ने लिखा इससे दुनियाभर से निजी निवेश आएगा और नौकरियों के ज्यादा अवसर बनेंगे. पीएम ने लिखा यह 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था के लिए बेहतर कदम है और हमारी सरकार बिजनेस को बढ़ावा देने के लिए हर कदम उठाएंगे.

मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने के लिए प्रतिबद्ध
इस पर गृह मंत्री अमित शाह ने लिखा कॉरपोरेट टैक्स को कम करने की मांग काफी समय से हो रही थी, जो कि अब हकीकत में बदल गई है. इससे दुनियाभर में भारतीय कंपनियों की पहचान बनेगी और भारतीय बाजार में निवेशक आकर्षित होंगे. मोदी सरकार देश को बड़ा मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने के लिए प्रतिबद्ध है.

कॉरपोरेट टैक्स घटाने का प्रस्ताव
आपको बता दें वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कॉरपोरेट कंपनियों को बड़ी राहत देते हुए टैक्स घटाने का प्रस्ताव किया है. यह प्रस्ताव घरेलू कंपनियों और नई कंपनियों दोनों के लिए है. वित्त मंत्री ने बताया कि इसको अध्यादेश के जरिये लागू किया जाएगा. वित्त मंत्री ने कहा बिना किसी छूट के कॉरपोरेट टैक्स 22 प्रतिशत होगा. साथ ही मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के लिए भी टैक्स घटेगा. इसके लिए सरकार की तरफ से 1.5 लाख करोड़ के राहत पैकेज का भी ऐलान किया गया.

इसके अलावा वित्त मंत्री ने कंपनियों की तरफ से लंबे समय की जा रही मिनिमम अल्‍टरनेट टैक्‍स (MAT) हटाने की मांग को भी मंजूर करते हुए इसे हटाने की घोषणा कर दी. अब फॉरेन पोर्टफोलियो इनवेस्टमेंट (FPIs) पर किसी तरह का कैपिटल गेन्स टैक्स नहीं लगेगा.