अनरजिस्टर्ड कंपनियों की जांच करे आयकर विभाग, सीबीडीटी का ओदश

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने आयकर अधिकारियों को उन तीन लाख कंपनियों के वित्तीय लेनदेन की जांच का निर्देश दिए है, जिनका पंजीकरण सरकार ने रद्द कर दिया था.

अनरजिस्टर्ड कंपनियों की जांच करे आयकर विभाग, सीबीडीटी का ओदश

नई दिल्ली : केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने आयकर अधिकारियों को उन तीन लाख कंपनियों के वित्तीय लेनदेन की जांच का निर्देश दिए है, जिनका पंजीकरण सरकार ने रद्द कर दिया था. सरकार ने कर चोरी और मनी लॉन्ड्रिंग के लिए इन कंपनियों पर कार्रवाई की थी. खासकर नोटबंदी के दौरान इनमें से कई कंपनियां संदिग्ध लेनदेन में लिप्त रहीं हैं. बोर्ड ने आयकर विभाग के कार्यालयों को इस विशेष काम को करने के लिए कहा है.

निकासी और जमा की पड़ताल करें
सीबीडीटी ने पत्र लिखकर कहा, 'बोर्ड चाहता है कि मनी लॉन्ड्रिंग में इन कंपनियों के संभावित दुरुपयोग का पता लगाने के लिए आयकर विभाग कंपनियों के बैंक खातों से निकासी और जमा की पड़ताल करें. खासकर कंपनियों के पंजीकरण रद्द होने की प्रक्रिया के समय और उससे पहले नोटबंदी के दौरान के वित्तीय लेनदेन को खंगाला जाए.'

कई कंपनियों के अपराध में लिप्त होने की आशंका
सीबीडीटी, आयकर विभाग के लिए नीति बनाने वाला निकाय है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बोर्ड के पास जानकारी है कि इनमें से कई कंपनियों के कर से जुड़े अपराधों में लिप्त होने की आशंका है. यह साबित होने पर आयकर विभाग कंपनियों के खिलाफ कर चोरी और धन शोधन में लिप्त रहने के लिए कार्रवाई शुरू करेगा.

मनी लॉन्ड्रिंग के मामलों को ईडी के पास भेजा जाएगा
उन्होंने कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग के मामलों को ईडी के पास भेजा जाएगा. सीबीडीटी ने कर अधिकारियों से कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय की वेबसाइट पर मौजूद इन कंपनियों की जानकारी जुटाने के लिए कहा है और उसके बाद इनके आयकर रिटर्न की जांच पड़ताल करने और बैंकों से उनके वित्तीय लेनदेन के बारे में जांच करने के लिए कहा है.

सीबीडीटी ने कहा, यदि कंपनी या व्यक्ति के संदिग्ध लेनदेन का पता चलता है तो राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) के समक्ष अपील करके कंपनी की बहाली की मांग की जाएगी ताकि आयकर अधिनियम के प्रावधानों के तहत उचित कार्रवाई की जा सके.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.