Breaking News
  • कोरोना पर दिल्‍ली के हालात काबू में, अभी सामुदायिक संक्रमण नहीं: अरविंद केजरीवाल
  • निजामुद्दीन के मरकज से 2346 लोग निकाले गए
  • मरकज के 1810 लोग क्‍वारंटाइन में हैं
  • भारत में कोरोना के 1637 मामले, इनमें से 133 पूरी तरह ठीक होकर घर लौटे
  • दुनिया में कोरोना के 8.62 लाख मामले, इनमें से 42 हजार की मौत

यात्रीगण कृपया ध्यान दें! अ‍ब इस महत्वपूर्ण रूट पर रेलवे चलाएगा तेजस एक्सप्रेस

आईआरसीटीसी की तीसरी प्राइवेट ट्रेन वाराणसी-इंदौर के बीच महाकाल एक्सप्रेस चलाने के बाद अब एक और महत्वपूर्ण रूट पर तेजस एक्सप्रेस चलाने की तैयारी की जा रही है.

यात्रीगण कृपया ध्यान दें! अ‍ब इस महत्वपूर्ण रूट पर रेलवे चलाएगा तेजस एक्सप्रेस
रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इसकी सैद्धांतिक मंजूरी भी दे दी है.

देहरादून: वाराणसी-इंदौर के बीच महाकाल एक्सप्रेस चलाने के बाद आईआरसीटीसी अब एक और महत्वपूर्ण रूट पर तेजस एक्सप्रेस चलाने की तैयारी में है. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को इसकी सैद्धांतिक मंजूरी भी दे दी है. नई तेजस ट्रेन नई दिल्ली से देहरादून के बीच वाया हरिद्वार चलेगी. इस ट्रेन को चलाने के लिए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रेल मंत्री से अनुरोध किया था. इस सिलसिले में उन्होंने आज पीयूष गोयल से दिल्ली में मुलाकात भी की थी. 

गोयाल ने कहा, "उत्तराखंड के रेल प्रोजेक्ट के लिए बजट की कमी आड़े नहीं आएगी. हरिद्वार में 2021 में पड़ने वाले कुंभ के मद्देनजर तीर्थयात्रियों की सुरक्षा और सुविधा के लिए रेलवे द्वारा पूरे प्रयास अभी से किए जा रहे हैं." मुलाकात के दौरान गोयल ने लालकुआं-खातिमा, टनकपुर-बागेश्वर और काशीपुर-धामपुर के बीच नई रेल लाइन को भी मंजूरी दी. नई दिल्ली-देहरादून होगी चौथी तेजस एक्सप्रेस होगी जिसे आईआरसीटीसी द्वारा संचालित किया जाएगा. आईआरसीटीसी दिल्ली-लखनऊ और अहमदाबाद-मुंबई, वाराणसी-इंदौर रूट पर निजी ट्रेन तेजस एक्सप्रेस का संचालन कर रहा है.

तेजस एक्सप्रेस में मिलेंगी ये सुविधाएं 
नई दिल्ली-देहरादून के बीच चलने वाली नई तेजस ट्रेन में यात्रियों को वाई-फाई की सुविधा मिलेगी. हर कोच में टीवी, अटेंडर रहेंगे. पेंट्रीकार में यात्रियों की पसंद के हिसाब से मेन्यु तैयार होगा. यानी यात्री अपनी पसंद के व्यंजन का लुत्फ उठा सकेंगे. ट्रेन एक घंटे लेट हुई तो यात्री को 100 रु., दो घंटे से ज्यादा लेट होने पर 250 रु. मुआवजा मिलेगा. गौरतलब है कि रेलवे की योजना देशभर में आगामी दो वर्ष में 150 ट्रेनें चलाने की है.  

 

(इनपुट: PTI से)