100-cc डिस्कवर का लालच कंपनी के लिए #MeToo साबित हुआ: राजीव बजाज

बजाज ऑटो के प्रबंध निदेशक राजीव बजाज ने 100 सीसी की डिस्कवर बाजार में उतारने को अपने करियर की 'सबसे बड़ी चूक' करार दिया. 

100-cc डिस्कवर का लालच कंपनी के लिए #MeToo साबित हुआ: राजीव बजाज
राजीव बजाज ऑस्ट्रेलियाई कंपनी केटीएम की संभावनाओं के लेकर आश्वस्त नजर आए...(फाइल फोटो)

मुंबई: बजाज ऑटो के मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव बजाज ने गुरुवार को 100 सीसी की डिस्कवर बाजार में उतारने को अपने करियर की 'सबसे बड़ी चूक' करार दिया. उन्होंने कहा कि इस मोटरसाइकिल की विफलता के कारण कंपनी देश में दूसरे स्थान पर लुढ़क गई.

बजाज ने कहा कि डिस्कवर जब 125 सीसी के संस्करण में पेश की थी तो यह एक अलग तरह की मोटरसाइकिल थी. तब डिस्कवर माइलेज और ताकत दोनों का मिश्रण थी और यही कारण है कि उसकी बिक्री जोरदार थी. बजाज ने पछतावा करते हुए कहा कि उनकी कंपनी अभी भी दो नंबर पर है और अगर उन्होंने कम सीसी की बाइक नहीं उतारी होती, तो आज कंपनी की स्थिति कुछ और ही होती.  

उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान कहा, "एक तरह का लालच पैदा हो गया था. हमारे मार्केटिंग के लोगों ने कहा अगर 125 सीसी की डिस्कवर इतनी बिक रही है तो 100 सीसी की कितनी बिकेगी. हमने इस विचार पर काम किया और 100 सीसी की डिस्कवर लेकर आए. हमने अपना स्थान खो दिया और पांच साल बाद हमारा प्रदर्शन भी खराब हो गया." 

Rajiv Bajaj

बजाज ने कहा, "हमने अलग विचार एवं यूएसपी के साथ नये तरह के उत्पाद के साथ शुरुआत की थी लेकिन यह 'मीटू' प्रोडक्ट में बदल गया. जीवन और विपणन दोनों के लिए 'मीटू' अच्छा नहीं होता." हालांकि वह रेसिंग मोटरसाइकिल बनाने वाली ऑस्ट्रेलियाई कंपनी केटीएम की संभावनाओं के लेकर आश्वस्त नजर आए. कंपनी ने 2007 में केटीएम में निवेश किया था.

उन्होंने कहा कि बजाज ऑटो अगले साल ई-वाहन बाजार में उतरने की योजना बना रही है. हालांकि उन्होंने सस्ते ई-वाहन बाजार में उतारे जाने को लेकर उद्योग पर चुटकी लेते हुए कहा कि वे इस तरह के वाहनों के साथ सौतेला व्यवहार कर रहे हैं.