close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आज जारी होगी RBI की मॉनिटरी पॉलिसी, बाजार को रेपो रेट में कटौती की उम्मीद

वर्तमान में रेपो रेट 6 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट 5.75 फीसदी है. ऐसे में अगर इसमें 25 प्वाइंट्स की कटौती की जाती है तो रेपो रेट 5.75 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट घटकर 5.50 फीसदी पर आ जाएगी.

आज जारी होगी RBI की मॉनिटरी पॉलिसी, बाजार को रेपो रेट में कटौती की उम्मीद
ग्रोथ रेट कम होने के बाद इसकी संभावना बढ़ गई है. (फाइल)

नई दिल्ली: आज रिजर्व बैंक (RBI) की तरफ से मौद्रिक समीक्षा नीति का ऐलान किया जाएगा. बाजार को केंद्रीय बैंक से बहुत उम्मीदें हैं. माना जा रहा है कि रेपो रेट में 25 प्वाइंट्स की कटौती की जा सकती है. लेकिन, बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच (बोफाएमएल) की रिपोर्ट में कहा गया है कि महंगाई संतोषजनक स्तर पर है, जिस वजह से केंद्रीय बैंक परंपरागत से हटकर ब्याज दरों में कुछ अधिक की कमी कर सकता है. परंपरागत तौर पर रिजर्व बैंक 25 प्वाइंट्स या 50 प्वाइंट्स की कटौती करता है या फिर बढ़ोतरी करता है.

बता दें, वर्तमान में रेपो रेट 6 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट 5.75 फीसदी है. ऐसे में अगर इसमें 25 प्वाइंट्स की कटौती की जाती है तो रेपो रेट 5.75 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट घटकर 5.50 फीसदी पर आ जाएगी. पिछले दिनों सरकार की तरफ से GDP विकास दर की रिपोर्ट पेश की गई थी. इस रिपोर्ट के मुताबिक, वित्त वर्ष 2018-19 की आखिरी तिमाही में विकास दर घटकर 5.8 पर आ गई, जबकि पूरे साल के दौरान इसके 6.8 फीसदी रहने की उम्मीद है. इससे पहले वित्त वर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही में जीडीपी विकास दर 7.2 प्रतिशत रही थी. 

हालांकि, विश्व बैंक ने आने वाले दिनों में भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर सकारात्मक रिपोर्ट दी है. विश्व बैंक के अनुसार, अगले तीन साल तक भारत की आर्थिक वृद्धि दर 7.50 प्रतिशत रह सकती है. उसने कहा, ‘‘महंगाई रिजर्व बैंक के लक्ष्य से नीचे है जिससे मौद्रिक नीति सुगम रहेगी. इसके साथ ही ऋण की वृद्धि दर के मजबूत होने से निजी उपभोग एवं निवेश को फायदा होगा.’’