Zee Rozgar Samachar

रियल एस्टेट में सुधार के संकेत, अगले 6 माह में बेहतर होगी अर्थव्यवस्था!

हाल ही में हुए एक सर्वे हुआ है जिसमें रियल एस्टेट कारोबार के फिर से हरे-भरे होने के संकेत दिख रहे हैं. सर्वे के अनुसार, अगले 6 माह में रियल एस्टेट कारोबार का पुनरुद्धार हो सकता है. 

रियल एस्टेट में सुधार के संकेत, अगले 6 माह में बेहतर होगी अर्थव्यवस्था!

नई दिल्लीः COVID-19 महामारी का असर भारत के रियल एस्टेट पर भी भी व्यापक रूप से पड़ा था. कोरोना के कहर से जुलाई-सितंबर के दौरान रियल एस्टेट का कारोबार पूरी तरह से लगभग ठप रहा है. महामारी की वजह से देशभर में रियल एस्टेट सेक्टर की हालत खस्ता हो चुकी है लेकिन इसी बीच एक राहत की खबर मिली है. हाल ही में हुए एक सर्वे हुआ है जिसमें रियल एस्टेट कारोबार के फिर से हरे-भरे होने के संकेत दिख रहे हैं. सर्वे के अनुसार,  अगले 6 माह में रियल एस्टेट कारोबार का पुनरुद्धार हो सकता है. 

सेंटीमेंट्स स्कोर में हुआ सुधार
हाल ही में, नाइट फ्रैंक-फिक्की-नारदको (Knight Frank-Ficci-NAREDCO) ने अपना एक 'रियल एस्टेट सेंटीमेंट इंडेक्स क्यू 3 2020 सर्वे' को जारी किया है. इन कंपनियों ने ये सर्वे बैंकों, वित्तीय संस्थानों और प्राइवेट इक्विटी प्लेयर्स के सेक्टर को लेकर किया था. सर्वे के अनुसार, जुलाई-सितंबर की अवधि में ताजा सेंटीमेंट्स स्कोर में 40 अंकों में सुधार आया है, जो पिछली तिमाही में 22 अंकों के रिकॉर्ड स्तर से कम था लेकिन इस बीच भी रियल एस्टेट क्षेत्र के कारोबारियों के बीच निराशा रही. हालांकि, 'फ्यूचर सेंटीमेंट स्कोर' में पिछली तिमाही के 41 से अधिक 52 अंकों का सुधार हुआ लिहाजा इससे आने वाले दिनों में अच्छे कारोबार के संकेत हैं. 

ये भी पढ़ें-इस बैंक से निकाल सकेंगे एक महीने में सिर्फ 25 हजार, RBI ने जारी किया आदेश

फंडिंग आउटलुक में भी सुधार
बता दें कि 50 से ज्यादा स्कोर सकारात्मक संकेत देता है 50  न्यूट्रल यानी ठीक-ठाक लेकिन यदि 50 से कम का स्कोर है तो इसका मतलब निराशा है. सर्वे के दौरान करीब 57 प्रतिशत लोगों ने कहा कि अगले 6 माह में अर्थव्यवस्था बढ़ने और बेहतर होने के आसार हैं. जानकारी के लिए बता दें कि पिछली तिमाही की तुलना में फंडिंग आउटलुक में भी सुधार देखने को मिला है. 

अगले 6 माह में बदल जाएगी अर्थव्यवस्था
सर्वे के दौरान 38 प्रतिशत लोगों ने कहा कि आने वाले छह महीनों में अर्थव्यवस्था का परिदृश्य में बदलाव देखने को मिलेगा, जबकि 31 प्रतिशत का मानना है कि वर्तमान स्तर की क्रेडिट अवेलेबिलिटी अगले 6 माह तक रहेगी.  इस बीच, 12 नवंबर को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ‘आत्मनिर्भर भारत’ राहत पैकेज का 3.0 वर्जन का ऐलान किया है जिसमें रियल स्टेट को लेकर भी कई राहतें दी गईं. उम्मीद की जा रही है कि ये राहतें सुस्त पड़े रियल एस्टेट सेक्टर में एक सुधार लाएंगे. प्रॉपर्टी रेट्स से जुड़ी एक घोषणा बिल्डर्स, डेवलपर्स और खरीदारों के लिए काफी फायदेमंद बताया जा रहा है.

ये भी पढ़ें-फिर आई सोने और चांदी की कीमतों में गिरावट, जानें क्या है नए रेट

मोदी सरकार ने दी राहत की खबर
मोदी सरकार ने घरों की खरीद पर सर्कल रेट में भारी छूट का ऐलान किया है. ऐसे में सरकार ने सर्किल रेट में छूट को 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 20 प्रतिशत कर दिया है. वित्त मंत्री सीता निर्मलारमण ने 2 करोड़ रुपए तक की हाउसिंग यूनिट्स की पहली बार सर्किल रेट से कम दाम पर बिक्री पर इनकम टैक्स नियमों में छूट की घोषणा की है. बता दें, सरकार की इस घोषणा से रेजिडेंशियल रियल एस्टेट को बढ़ावा मिलेगा और मध्यम वर्ग राहत का एहसास होगा. जानकारी के लिए बता दें कि में सरकार के राहत पैकेज की घोषणा के बाद रोजगार के साथ-साथ कृषि क्षेत्र और घर खरीदारों को भी फायदा होगा.

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.