close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कच्चे तेल की कीमत बढ़ने का दिख रहा असर, Sensex 324 टूट कर हुआ बंद

कच्चे तेल के दाम 75 डॉलर प्रति बैरल के पार निकल गए. इससे वृद्धि और वृहद आर्थिक स्थिरता को लेकर चिंता बढ़ी है. 

कच्चे तेल की कीमत बढ़ने का दिख रहा असर, Sensex 324 टूट कर हुआ बंद
सेंसेक्स 38,730.86 अंक पर बंद हुआ. (फाइल)

मुंबई: कच्चे तेल के दाम चढ़ने और रुपये में गिरावट से शेयर बाजारों ने गुरुवार को शुरुआती लाभ गंवा दिया. कारोबार के अंतिम आधे घंटे में चले बिकवाली के सिलसिले के बीच सेंसेक्स 324 अंक टूट गया. कारोबारियों ने कहा कि मुख्य रूप से वाहन, धातु, ऊर्जा और वित्तीय कंपनियों के शेयरों में बिकवाली का दबाव था. वैश्विक मोर्चे पर कच्चे तेल के दाम 75 डॉलर प्रति बैरल के पार निकल गए. इससे वृद्धि और वृहद आर्थिक स्थिरता को लेकर चिंता बढ़ी है. 

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स सकारात्मक रुख के साथ खुलने के बाद अंतिम आधे घंटे में चले बिकवाली के सिलसिले से दबाव में आ गया. अंत में सेंसेक्स 323.82 अंक या 0.83 प्रतिशत के नुकसान से 38,730.86 अंक पर बंद हुआ. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 84.35 अंक या 0.72 प्रतिशत के नुकसान से 11,641.80 अंक पर बंद हुआ. देश की प्रमुख कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया का शेयर 2.23 प्रतिशत टूट गया. मारुति का बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही का शुद्ध लाभ 4.6 प्रतिशत घटकर 1,795.6 करोड़ रुपये पर आ गया. 

NPA के नियमों में हो सकता है बदलाव, कर्जदारों को मिलेगा 60 दिनों का अतिरिक्त समय

सेंसेक्स की कंपनियों में टाटा स्टील, वेदांता, मारुति, एसबीआई, कोल इंडिया, टाटा मोटर्स, सनफार्मा, हिंदुस्तान यूनिलीवर, रिलायंस इंडस्ट्रीज, इंडसइंड बैंक, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा, कोटक बैंक और इन्फोसिस के शेयर 2.89 प्रतिशत तक टूट गए. वहीं दूसरी ओर भारती एयरटेल, टीसीएस और बजाज आटो के शेयरों में 1.06 प्रतिशत तक का लाभ रहा. 

2019 में पहली बार 75 डॉलर प्रति बैरल के पार निकला
विश्लेषकों ने कहा कि माह के दौरान बाजार नई ऊंचाई पर पहुंचे लेकिन उच्चस्तर पर मुनाफा काटे जाने की वजह से वे इस पर टिक नहीं सके. शेयरखान बाय बीएनपी परिबा के प्रमुख (परामर्श) हेमांग जानी ने कहा कि ब्रेंट कच्चा तेल 2019 में पहली बार 75 डॉलर प्रति बैरल के पार निकला है. कच्चे तेल की ऊंची कीमतों का चालू खाते के घाटे (कैड), रुपये और मुद्रास्फीति पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है. उन्होंने कहा कि आम चुनाव की वजह से निकट भविष्य में बाजार में उतार-चढ़ाव बना रहेगा. बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 0.58 प्रतिशत तक का नुकसान रहा. 

विदेशी निवेशकों ने 974 करोड़ के शेयर खरीदे
ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 1.25 प्रतिशत चढ़कर 75 डॉलर प्रति बैरल के पार निकल गया. अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में दिन में कारोबार के दौरान रुपया 37 पैसे के नुकसान से 70.23 रुपये प्रति डॉलर पर चल रहा था. इस बीच, शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बुधवार को 974.88 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे. वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 657.06 करोड़ रुपये के शेयर बेचे. अन्य एशियाई बाजारों शंघाई, तोक्यो और सोल में मिला जुला रुख रहा. शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार नुकसान में चल रहे थे.