close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

युआन डीवैल्यूएशन के कारण रुपया 65.10 प्रति डॉलर के दो वर्ष में निम्नतम स्तर पर

विदेशी विनिमय बाजार में रुपये में आज लगातार सातवें सत्र में गिरावट जारी रही। चीन की मुद्रा युआन का और अवमूल्यन किये जाने के बीच रुपया आज डॉलर के मुकाबले 32 पैसे की जोरदार गिरावट के साथ 65.10 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। यह सितंबर 2013 के बाद का सबसे कमजोर स्तर है।

मुंबई : विदेशी विनिमय बाजार में रुपये में आज लगातार सातवें सत्र में गिरावट जारी रही। चीन की मुद्रा युआन का और अवमूल्यन किये जाने के बीच रुपया आज डॉलर के मुकाबले 32 पैसे की जोरदार गिरावट के साथ 65.10 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। यह सितंबर 2013 के बाद का सबसे कमजोर स्तर है।

अन्तरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया 64.72 रुपये प्रति डॉलर पर ऊंचा खुला तथा शेयर बाजार में तेजी के कारण निर्यातकों की आरंभिक डॉलर बिकवाली की वजह से 64.63 रुपये प्रति डॉलर तक मजबूत हो गया। लेकिन रुपया अपने आरंभिक लाभ को कायम नहीं रख पाया। बैंकों एवं आयातकों की ताजा डॉलर मांग के कारण 65.23 रुपये प्रति डॉलर तक लुढ़कने के बाद अंत में 32 पैसे अथवा 0.49 प्रतिशत की गिरावट के साथ 65.10 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ।

चीन के द्वारा अपनी मुद्रा युआन के अवमूल्यन जारी रखने के कारण विगत सात कारोबारी सत्रों में रुपये में 136 पैसे अथवा 2.13 प्रतिशत की गिरावट आई है। इससे पूर्व छह सितंबर 2013 को रुपया 65.24 रुपये प्रति डॉलर के स्तर पर बंद हुआ था।

वैश्विक बाजार में आज येन और यूरो के मुकाबले रुपये में मामूली तेजी देखी गई। भारतीय शेयर बाजार का सूचकांक आज 37.27 अंक अथवा 0.14 प्रतिशत सुधरकर 27,549.53 अंक पर बंद हुआ। इस बीच भारतीय रिजर्व बैंक ने संदर्भ दर 64.0212 रुपये प्रति डॉलर और 72.2573 रुपये प्रति यूरो निर्धारित किया था। पौंड, यूरो और जापानी येन के मुकाबले रुपये में गिरावट देखी गई।