कच्चे तेल में तेजी लौटने से डॉलर के मुकाबले रुपये में इतने पैसे की गिरावट

रुपया सुबह रुपया प्रति डॉलर 72.74 पर कमजोर खुला, दिन में कच्चे तेल के दाम एक प्रतिशत से अधिक उछल कर 71 डॉलर प्रति बैरल तक चली गई.

कच्चे तेल में तेजी लौटने से डॉलर के मुकाबले रुपये में इतने पैसे की गिरावट

मुंबई: सऊदी अरब द्वारा कच्चे तेल के उत्पादन में कटौती करने मंशा जाहिर करने से वैश्विक बाजारों में सोमवार को कच्चे तेल के भाव में तेजी लौटने के बीच डॉलर के मुकाबले रुपया 39 पैसे गिर कर 72.89 पर बंद हुआ. रुपया सुबह रुपया प्रति डॉलर 72.74 पर कमजोर खुला. दिन में कच्चे तेल के दाम एक प्रतिशत से अधिक उछल कर 71 डॉलर प्रति बैरल तक चली गई. इससे रुपये पर दबाव बढ़ गया और डॉलर एक समय 73.07 रुपये तक चढ़ गया था. अंत में रुपये की विनिमय दर 39 पैसे अथवा 0.54 प्रतिशत की हानि के साथ प्रति डॉलर 72.89 पर टिकी.

बाजार सूत्रों ने कहा कि कच्चे तेल की वैश्विक कीमतों में तेजी आने के बीच आयातकों ने डॉलर की मांग बढ़ा दी थी. अन्य मुद्राओं की तुलना में डॉलर के मजबूत होने का भी रुपये पर बदाव था. सऊदी अरब ने दिसंबर से कच्चे तेल के उत्पादन में पांच लाख बैरल प्रतिदिन की कटौती करने की मंशा जाहिर की है. 

तेल उत्पादक एवं निर्यातक देश वैश्विक उत्पादन में कुल मिलाकर 10 लाख बैरल प्रतिदिन की कटौती किए जाने पर बल दे रहे हैं ताकि गिरते बाजार में स्थिरता लाई जा सके. घरेलू शेयर बाजार में भी गिरावट का रुख रहा.

अगले 3 महीने में लुढ़क सकता है 76 के स्तर पर
हाल ही में, स्विट्जरलैंड की ब्रोकरेज कंपनी यूबीएस की एक रिपोर्ट आई थी जिसमें रुपये के अगले तीन महीने में 76 के स्तर तक लुढ़कने की बात कही गई थी. रिपोर्ट में कहा, "यह मान लिया जाए कि वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल का दाम ऊंच बना रहता है और यह 80 डॉलर बैरल से ऊपर रहता है तो हमारा अनुमान है कि रुपया अगले तीन महीने में टूटकर 76 के स्तर पर जा सकता है."  

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.