झटका: बचत खाते में मिलने वाला ब्याज घटा, जानिए आपको कितना हुआ नुकसान

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने बचत बैंक खातें पर वार्षिक ब्याज दर 0.05 प्रतिशत घटाकर 2.70 प्रतिशत कर दी है. वहीं निजी क्षेत्र के दूसरे सबसे बड़े बैंक आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) ने बचत खाते पर ब्याज दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती की है.

झटका: बचत खाते में मिलने वाला ब्याज घटा, जानिए आपको कितना हुआ नुकसान

नई दिल्ली: देश में लॉकडाउन खुलने के चरण में आपके लिए एक बुरी खबर आ रही है. बैंकों ने भले होम लोन और ऑटो लोन सस्ते कर दिए हैं. लेकिन ज्यादातर बड़े बैंक अब आपके बचत खाते में सेंध लगा रहा हैं. आपके बचत खाते में मिलने वाले ब्याज दर को कम दर दिया गया है. इसका सीधा नुकसान खाताधारकों को होने वाला है.

SBI और ICICI Bank ने घटाए ब्याज दर
देश के सबसे बड़े सरकारी और निजी बैंक ने ब्याज दरों में एक साथ कटौती की है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने बचत बैंक खातें पर वार्षिक ब्याज दर 0.05 प्रतिशत घटाकर 2.70 प्रतिशत कर दी है. वहीं निजी क्षेत्र के दूसरे सबसे बड़े बैंक आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) ने बचत खाते पर ब्याज दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती की है.

ये भी देखें-

SBI ने बचत बैंक खातें पर वार्षिक ब्याज दर 0.05 प्रतिशत घटाकर 2.70 प्रतिशत कर दी है. बैंक की वेबसाइट पर उपलब्ध सूचना के अनुसार संशोधित ब्याज दरें 31 मई से लागू हो गई हैं. बचत बैंक खाते के लिए बैंक के दो स्लैब एक लाख रुपये तक और एक लाख रुपये से अधिक है.

ICICI Bank ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा कि उसने 50 लाख रुपये से कम की सभी जमाओं पर बज दर को 0.25 प्रतिशत घटाकर 3.25 से 3 प्रतिशत कर दिया है. 50 लाख रुपये या उससे अधिक की जमा पर ब्याज दर को 3.75 से घटाकर 3.50 प्रतिशत किया गया है. बैंक ने कहा है कि बचत खाते पर नई ब्याज दरें बृहस्पतिवार से लागू होंगी. पर्याप्त नकदी की स्थिति के बीच नए ऋण की मांग कम होने की वजह से बैंक जमा पर ब्याज दरों में कटौती कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: क्या आपको भी है पैसों की जरूरत, इस बीमा पॉलिसी की मदद से मिल सकता है लोन

बताते चलें कि चालू वित्त वर्ष में एसबीआई ने दूसरी बार बचत खाते पर ब्याज दरों में कटौती की है. इससे पहले अप्रैल में बैंक ने सभी स्लैब में बचत बैंक खातें पर ब्याज दर को 0.25 प्रतिशत घटाकर 2.75 प्रतिशत कर दिया था. इसके अलावा बैंक ने 27 मई को सभी परिपक्वता अवधि की खुदरा मियादी जमा दरों में 0.40 प्रतिशत तक की कटौती की थी.