आज भी गिर सकते हैं भारतीय शेयर बाजार, कोरोना की दूसरी लहर से सहमे ग्लोबल मार्केट

भारतीय शेयर बाजारों (Indian share markets) के लिए बुधवार का दिन बेहद खराब गुजरा. सेंसेक्स एक बार फिर 40,000 के नीचे फिसलकर बंद हुआ. आज भारतीय बाजारों की मंथली वायदा एक्सपायरी (expiry) है. साथ ही विदेशी बाजारों से संकेत एक बार फिर काफी खराब हैं.

आज भी गिर सकते हैं भारतीय शेयर बाजार, कोरोना की दूसरी लहर से सहमे ग्लोबल मार्केट

नई दिल्ली: भारतीय शेयर बाजारों (Indian share markets) के लिए बुधवार का दिन बेहद खराब गुजरा. सेंसेक्स एक बार फिर 40,000 के नीचे फिसलकर बंद हुआ. आज भारतीय बाजारों की मंथली वायदा एक्सपायरी (expiry) है. साथ ही विदेशी बाजारों से संकेत एक बार फिर काफी खराब हैं. इसलिए आज भी भारतीय शेयर बाजार में तेज गिरावट देखने को मिल सकती है.

आज SGX Nifty 100 अंकों की गिरावट के साथ खुला है, लेकिन इसमें हल्की रिकवरी भी दिख रही है, फिलहाल ये 11650 के आस-पास कारोबार कर रहा है, हालांकि अमेरिकी वायदा बाजार मजबूती दिखा रहे हैं. Dow Futures 250 अंक मजबूत होकर 26650 के आस-पास कारोबार कर रह है, Nasdaq Futures में भी 86 अंकों की मजबूती दिख रही है, ये भी 11220 के लेवल पर टिका हुआ है. 

एशियाई बाजारों में जापान का निक्केई करीब 200 अंकों की गिरावट के साथ कारोबार कर रहा है, जबकि कोरिया स्टॉक एक्सचेंज Kospi भी करीब 2 परसेंट तक की गिरावट दिख रही है. हॉन्ग कॉन्ग के बाजारों में 460 अंकों की गिरावट के साथ कारोबार हो रहा है. 

कल कैसे रहे विदेशी बाजार 

कोरोना संकट की दूसरी लहर की वजह से बुधवार का दिन पूरी दुनिया के शेयर बाजारों के लिए तबाही का दिन रहा. अमेरिकी शेयर बाजार कल औंधे मुंह गिरे. अमेरिका में Dow Jones करीब पौन चार परसेंट तक टूटा. Dow Jones 943 अंकों की गिरावट के साथ 26500 के लेवल तक फिसल गया. 3 दिन में Dow Jones 1800 अंक टूटा है. अमेरिका के वोलेटिलिटी इंडेक्स में 20 परसेंट का उछाल देखने को मिला है, और ये 4 महीने की ऊंचाई पर पहुंच गया है, जो कि अच्छे संकेत नहीं हैं. 

अमेरिकी वायदा बााजरों के लिए बुधवार का दिन जुलाई के बाद सबसे खराब रहा है. कल S&P500 में भी 3.5 परसेंट से ज्यादा की गिरावट रही. नैस्डेक भी 3.73 परसेंट तक टूटा. यूरोपीय बाजारों में भी 2.5 परसेंट से 4 परसेंट तक की गिरावट रही. लंदन का FTSE 146 अंक, फ्रांस का CAC40 160 अंक और जर्मनी का DAX 503 अंक टूटकर बंद हुआ. 

विदेशी बाजारों से संकेत 

अमेरिका और यूरोप में एक बार फिर कोरोना का खतरा तेजी से बढ़ने लगा है. अमेरिका में एक बार फिर कल 80 हजार नए मामले सामने आने से हड़कंप मच गया है. यूरोप में भी कोरोना की दूसरी को देखते हुए जर्मनी और फ्रांस ने कड़े प्रतिबंधों के साथ लॉकडाउन लगा दिया है, सिर्फ जरूरी सेवाओं को ही इजाजत है. जर्मनी में पिछले 10 दिनों में ICU में मरीजों की संख्या दोगुनी हो चुकी है.

इसी बीच आज अमेरिका और यूरोप के तीसरी तिमाही के GDP के आंकड़े भी आने वाले हैं. साथ ही अमेजन, एपल, फेसबुक, अल्फाबेट, ट्विटर जैसी बड़ी कंपनियों के नतीजों पर भी नजर रहेगी. कच्चा तेल कल 5 परसेंट टूटा है और ये 3 हफ्ते के निचले स्तर पर पहुंच चुका है. ब्रेंट क्रूड इस वक्त 39 डॉलर पर कारोबार कर रहा है.

आज की स्ट्रैटिजी 

हमारे सहयोगी चैनल ज़ी बिज़नेस के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी के मुताबिक 'दुनिया भर में कोरोना का कहर एक बार फिर दिख रहा है, साथ ही अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव भी हैं, जिससे बाजार नर्वस हो रहे हैं. कल अमेरिका में आई तेज गिरावट और वोलिटिलिटी इंडेक्स का 20 परसेंट उछल जाना अच्छे संकेत नहीं हैं. ऐसे में पोजीशन हल्की रखनी चाहिए, ऐसे वक्त में सावधान रहने की जरूरत है. अगर कम गिरावट के साथ शुरुआत हो या फिर उछाल मिले तो पोजीशन को कम करते रहें.' 

अनिल सिंघवी के मुताबिक 'निफ्टी में आज के लिए सपोर्ट रेंज 11600-11650 है, जबकि ऊपरी रेंज 11825-11875 होगी, बैंक निफ्टी के लिए सपोर्ट रेंज 23850-23925 है जबकि ऊपरी रेंज 24475-24650 होगी.'

ये भी पढ़ें: प्रॉपर्टी खरीदने पर 1% से ज्यादा नहीं होगा ब्रोकर कमीशन, इस राज्य में बना नियम 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.