रेपो दर में कटौती से 30 हजारी बनने के बाद सेंसेक्स 213 अंक टूटा

बजट पेश होने के कुछ ही दिनों के भीतर रेपो दर में अचानक कटौती करने के रिजर्व बैंक के कदम से शेयर बाजार में तेजी का जोर रहा जिससे बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 30,000 अंक का मनोवैज्ञानिक स्तर पार कर गया। हालांकि, बाद में भारी मुनाफा वसूली से यह बढ़त कायम न रख सका और 213 अंक टूटकर बंद हुआ।

रेपो दर में कटौती से 30 हजारी बनने के बाद सेंसेक्स 213 अंक टूटा

मुंबई : बजट पेश होने के कुछ ही दिनों के भीतर रेपो दर में अचानक कटौती करने के रिजर्व बैंक के कदम से शेयर बाजार में तेजी का जोर रहा जिससे बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 30,000 अंक का मनोवैज्ञानिक स्तर पार कर गया। हालांकि, बाद में भारी मुनाफा वसूली से यह बढ़त कायम न रख सका और 213 अंक टूटकर बंद हुआ।

दो महीने से भी कम समय में आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने आज दूसरी बार रेपो दर 0.25 प्रतिशत घटा दी। शेयर बाजार खुलने से पहले रेपो दर घटाए जाने से सेंसेक्स 29,937.27 अंक पर खुला और कुछ ही मिनटों में 30,024.74 अंक की अब तक की रिकार्ड ऊंचाई पर पहुंच गया। हालांकि, मुनाफा वसूली की मार से इसने शुरुआती बढ़त गंवा दी।

कारोबार के अंतिम डेढ़ घंटे में सेंसेक्स उच्च स्तर से 700 अंक टूटकर दिन के निचले स्तर 29,289.05 अंक पर आ गया। हालांकि, यह पिछले बंद स्तर की तुलना में 213 अंक नीचे 29,380.73 अंक पर बंद हुआ। इसके साथ ही बाजार में चार दिनों से जारी तेजी आज थम गई।

इससे पहले सेंसेक्स का सर्वकालिक उच्च स्तर 29,844.16 अंक था जो इसने 30 जनवरी को छूआ था। हालांकि, बाद में यह 499 अंक टूटकर बंद हुआ था। इसी तरह, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 9,119.20 अंक की नयी ऊंचाई पर पहुंच गया। हालांकि, रिकार्ड स्तर पर मुनाफा वसूली से निफ्टी 73.60 अंक नीचे 8,922.65 अंक पर बंद हुआ।