close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मुनाफा वसूली से शेयर बाजार में गिरावट, सेंसेक्स 248 अंक टूटा, निफ्टी भी गिरा

शेयर बाजार में पिछले तीन दिन से जारी तेजी पर बुधवार को विराम लग गया और बीएसई सेंसेक्स 248 अंक टूटकर बंद हुआ. वैश्विक बाजारों में कमजोर रुख के बीच बैंक, धातु और वाहन कंपनियों के शेयरों की अगुवाई में यह गिरावट आई.

मुनाफा वसूली से शेयर बाजार में गिरावट, सेंसेक्स 248 अंक टूटा, निफ्टी भी गिरा

मुंबई : शेयर बाजार में पिछले तीन दिन से जारी तेजी पर बुधवार को विराम लग गया और बीएसई सेंसेक्स 248 अंक टूटकर बंद हुआ. वैश्विक बाजारों में कमजोर रुख के बीच बैंक, धातु और वाहन कंपनियों के शेयरों की अगुवाई में यह गिरावट आई. बंबई शेयर बाजार का तीस शेयरों वाला सूचकांक 247.68 अंक यानी 0.62 प्रतिशत की गिरावट के साथ 39,502.05 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह नीचे में 39,420.50 और ऊंचे में 39,767.93 अंक तक गया.

एसबीआई के शेयर में सबसे ज्यादा गिरावट
इसी तरह, एनएसई निफ्टी 67.65 अंक यानी 0.57 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,861.10 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह नीचे में 11,836.80 और ऊंचे में 11,931.90 अंक तक गया. सेंसेक्स के शेयरों में सर्वाधिक नुकसान में एसबीआई रहा. इसमें 3.29 प्रतिशत की गिरावट रही. उसके बाद टाटा स्टील, आईसीआईसीआई बैंक तथा मारुति का स्थान रहा जो 2.76 प्रतिशत तक नीचे आया.

एचसीएल टेक और एचयूएल सबसे ज्यादा फायदे में रहे
दूसरी तरफ सन फार्मा, टीसीएस, एचसीएल टेक और एचयूएल सर्वाधिक फायदे में रहे. इनमें 2.41 प्रतिशत तक की तेजी रही. कारोबारियों के अनुसार वैश्विक बाजारों में कमजोर रुख और विदेशी संस्थागत निवेशकों की ताजा बिकवाली से शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव रहा. शेयर बाजारों में उपलब्ध अस्थायी आंकड़ों के अनुसार एफआईआई ने मंगलवार को 501.11 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे जबकि घरेलू संस्थागत निवेशकों (डीआईआई) ने 269.22 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे.

यूरोपीय सेंट्रल बैंक के बयान के बाद वैश्विक बाजारों में गिरावट रही. सेंट्रल बैंक ने कहा कि व्यापार तनाव यूरो क्षेत्र में वित्तीय स्थिरता के लिये सबसे बड़ा जोखिम है. एशिया के अन्य बाजारों में गिरावट दर्ज की गयी. वहीं शुरूआती कारोबार में यूरोप के प्रमुख शेयर बाजारों में भी तीव्र गिरावट रही.