IT और बैंक शेयरों में लिवाली से शेयर बाजार में तेजी, Sensex 279 अंक उछला

सबसे ज्यादा बढ़त बजाज फाइनेंस के शयर में दर्ज की गई. इसका शेयर मूल्य 3.64 प्रतिशत बढ़ गया. कंपनी का शुद्ध लाभ मार्च में समाप्त तिमाही के दौरान 50 प्रतिशत की जोरदार बढ़त के साथ 1,114 करोड़ रुपये पर पहुंच गया.

IT और बैंक शेयरों में लिवाली से शेयर बाजार में तेजी, Sensex 279 अंक उछला
निफ्टी 11,257 अंकों पर बंद हुआ. (फाइल)

मुंबई: सूचना प्रौद्योगिकी और वित्तीय क्षेत्र की कंपनियों में निवेशकों की लिवाली से शेयर बाजारों में सूचकांक गुरुवार को तेजी के साथ बंद हुये. हालांकि, इस दौरान वैश्विक बाजारों में अमेरिका और चीन के बीच व्यापार तनाव बढ़ने का असर दिखाई दिया. शेयर बाजारों में गुरुवार को पूरे दिन कारोबार सुस्त रहा. हालांकि, आखिरी घंटे में लिवाली का जोर बढ़ने से बंबई शेयर बाजार का संवेदी सूचकांक 278.60 अंक यानी 0.75 प्रतिशत बढ़कर 37,393.48 अंक पर बंद हुआ. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 100.10 अंक यानी 0.90 प्रतिशत बढ़कर 11,257.10 अंक पर पहुंच गया. 

IT कंपनियों में लिवाली से तेजी का रुख
कारोबार के दौरान सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी), वित्तीय और बैंकिंग क्षेत्र की कंपनियों में लिवाली से तेजी का रुख रहा. सबसे ज्यादा बढ़त बजाज फाइनेंस के शयर में दर्ज की गई. इसका शेयर मूल्य 3.64 प्रतिशत बढ़ गया. कंपनी का शुद्ध लाभ मार्च में समाप्त तिमाही के दौरान 50 प्रतिशत की जोरदार बढ़त के साथ 1,114 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. 

यस बैंक का शेयर सबसे ज्यादा 4.07 प्रतिशत घट गया
इसके अलावा टाटा मोटर्स, इनफोसिस, वेदांता, ओएनजीसी, पावर ग्रिड, एनटीपीसी, एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, कोटा महिन्द्रा बैंक, स्टेट बैंक, एचडीएफसी बैंक, टाटा स्टील, टीसीएस और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में 3.48 प्रतिशत तक की तेजी रही. इसके विपरीत यस बैंक का शेयर सबसे ज्यादा 4.07 प्रतिशत घट गया. गिरने वाले अन्य शेयरों में भारतीय एयरटेल, इंडसइंट बैंक, कोल इंडिया, आइटीसी, महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा, एचडीएफसी, मारुति और एशियन पेंट्स रहे जिनमें 1.87 प्रतिशत तक की गिरावट दर्ज की गई. 

चीन-अमेरिका में टेंशन से स्थिति और बुरी हुई
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन की दूरसंचार क्षेत्र की प्रमुख कंपनी हुवावेई पर प्रतिबंध लगा दिया. इससे दोनों के बीच व्यापार मोर्चे पर पहले से चल रहा तनाव और गहरा गया है. जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि बाजार में बिकवाली का दौर थमा है और बाजार अधिक बिक्री की स्थिति से लौटा है. कुछ कंपनियों के तिमाही परिणाम बेहतर रहे हैं. बहरहाल, वैश्विक परिदृश्य में अनिश्चितता जारी है. आर्थिक वृद्धि को लेकर चिंता बढ़ी है. इससे बांड और सोने की तरफ निवेशकों का रुझान बढ़ा है. 

तेल, गैस और रिएल्टी सेक्टर में आया उछाल
क्षेत्रवार सूचकांकों की यदि बात की जाये तो तेल एवं गैस, रीयल्टी, बिजली, धातु, आईटी, बैंकेक्स और वित्त क्षेत्र के सूचकांक में 1.53 प्रतिशत तक ऊंचे रहे. शेयर बाजारों के अनंतिम आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बुधवार को बाजारों में 1,142.44 करोड़ रुपये की बिकवाली की जबकि घरेलू संस्थागत निवेशकों ने इस दौरान 671.77 करोड़ रुपये के शेयरों की खरीदारी की. चीन, जापान और कोरिया के शेयर सूचकांक मिले जुले रुख के साथ बंद हुये जबकि यूरोप के शेयर बाजारों में शुरुआत गिरावट के साथ हुई.