close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हरे निशान में खुले शेयर बाजार, नई सरकार से निवेशकों की धारणा हुई मजबूत

सेंसेक्स की कंपनियों में यस बैंक, वेदांता, कोल इंडिया, सनफार्मा, बजाज आटो, इंडसइंड बैंक, पावरग्रिड, टाटा स्टील, एक्सिस बैंक, एलएंडटी, रिलायंस इंडस्ट्रीज और टाटा मोटर्स 3.75 प्रतिशत तक लाभ में कारोबार कर रहे थे. 

हरे निशान में खुले शेयर बाजार, नई सरकार से निवेशकों की धारणा हुई मजबूत
निवेशकों को नई सरकार से काफी उम्मीदें हैं. (फाइल)

मुंबई: बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स मंगलवार को शुरुआती कारोबार में 100 अंक मजबूत हुआ. सकारात्मक घरेलू और वैश्विक रुख तथा विदेशी कोषों के प्रवाह से बाजार में तेजी आई. बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 98.04 अंक या 0.25 प्रतिशत की बढ़त के साथ 39,781.33 अंक ऊपर चल रहा था. वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी शुरुआती कारोबार में 24.75 अंक या 0.21 प्रतिशत की बढ़त के साथ 11,949.50 अंक पर पहुंच गया. 

यस बैंक, वेदांता लाभ में कर रहे कारोबार
सेंसेक्स की कंपनियों में यस बैंक, वेदांता, कोल इंडिया, सनफार्मा, बजाज आटो, इंडसइंड बैंक, पावरग्रिड, टाटा स्टील, एक्सिस बैंक, एलएंडटी, रिलायंस इंडस्ट्रीज और टाटा मोटर्स 3.75 प्रतिशत तक लाभ में कारोबार कर रहे थे. वहीं दूसरी ओर एचडीएफसी, हीरो मोटोकॉर्प, एसबीआई, हिंदुस्तान यूनिलीवर, कोटक बैंक, भारती एयरटेल, बजाज फाइनेंस, एचसीएल टेक, आईसीआईसीआई बैंक और आईटीसी नुकसान में थे. 

निवेशकों की धारणा हुई है मजबूत
लोकसभा चुनावों में बीजेपी को मिली शानदार जीत से निवेशक की धारणा मजबूत बनी हुई है. उन्हें केन्द्र में सत्ता संभालने वाली नई सरकार से काफी उम्मीद बंधी हैं. सोमवार को सेंसेक्स 248.57 अंक यानी 0.63 प्रतिशत की तेजी के साथ 39,683.29 अंक पर बंद हुआ था. इसी प्रकार, निफ्टी 80.65 अंक अर्थात 0.68 प्रतिशत उछलकर 11,924.75 अंक पर बंद हुआ था.

सरकार से सुधारों को जारी रखने की उम्मीद
घरेलू शेयर बाजारों में तेजी उम्मीदों के दम पर हो रही है. निवेशकों को यह भरोसा है कि केन्द्र में बनने वाली बीजेपी नीत राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार पहले कार्यकाल में शुरू किये गये सुधारों को आगे भी जारी रखेगी. विश्लेषकों के अनुसार अमेरिका तथा चीन के बीच व्यापार तनाव बढ़ने तथा कमजोर वैश्विक बाजार का मौजूदा परिदृश्य का घरेलू बाजारों पर कोई खास असर नहीं हुआ. हालांकि, चुनावी उत्साह ठंडा पड़ने के साथ स्थिति बदल सकती है.