भारी कर्ज से कंपनी की वित्त जुटाने की क्षमता प्रभावित होगी : टाटा स्टील

कर्ज के भारी बोझ की वजह से टाटा स्टील की प्रतिस्पर्धी दरों पर वित्त जुटाने की क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा. टाटा स्टील की एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है.

भारी कर्ज से कंपनी की वित्त जुटाने की क्षमता प्रभावित होगी : टाटा स्टील

नई दिल्ली : कर्ज के भारी बोझ की वजह से टाटा स्टील की प्रतिस्पर्धी दरों पर वित्त जुटाने की क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा. टाटा स्टील की एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है. इससे पहले टाटा स्टील ने कहा था कि वह भूषण स्टील के 32,500 करोड़ रुपये के अधिग्रहण के लिए विभिन्न ऋण माध्यमों से 16,500 करोड़ रुपये जुटाएगी. टाटा स्टील की वार्षिक रिपोर्ट 2017-18 में कहा गया है, 'बही खाते में भारी कर्ज की वजह से कंपनी की प्रतिस्पर्धी दरों पर ऋण जुटाने की क्षमता पर प्रतिकूल असर होगा.'

रिपोर्ट में टाटा स्टील के समक्ष वित्तीय जोखिमों के बारे में कहा गया है, 'विदेशी विनिमय दरों में उतार-चढ़ाव से कंपनी की ऋण भुगतान क्षमता पर असर पड़ेगा. इससे वित्तीय बाजारों तक पहुंच को लेकर भी अनिश्चितता बनेगी.' कंपनी के परिचालन जोखिमों के संदर्भ में रिपोर्ट में कहा गया है कि इस्पात उद्योग पर निश्चित लागत और कच्चे माल तथा ऊर्जा कीमतों में उतार-चढ़ाव का दबाव रहता है.

कच्चे माल की आपूर्ति में किसी तरह की अड़चन से कंपनी के मुनाफे पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है. रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि कंपनी के परिचालन वाले क्षेत्रों में किसी तरह के श्रम विवाद तथा सामाजिक तनाव से कंपनी का परिचालन और वित्तीय स्थिति प्रभावित हो सकती है.