Breaking News
  • कोरोना से मृत्यु दर 1% से कम करने का लक्ष्य: PM मोदी
  • आरोग्य सेतु ऐप के जरिए संक्रमित लोगों के करीब पहुंच सकते हैं: PM मोदी
  • 72 घंटे में संक्रमण की जानकारी से खतरा कम: PM मोदी
  • देश में फिलहाल हर रोज 7 लाख टेस्टिंग: PM मोदी

इस आईटी कंपनी के कर्मचारियों की लगी लाटरी, जानिए कितनी बढ़कर मिली वैरिएबल पे

कर्मचारियों के लिए दोहरी खुशी का दिन, कंपनी 100 अरब डॉलर क्‍लब में पहुंचने के करीब

इस आईटी कंपनी के कर्मचारियों की लगी लाटरी, जानिए कितनी बढ़कर मिली वैरिएबल पे
गुरुवार को कंपनी ने चौथी तिमाही के नतीजे घोषित किए थे. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: टीसीएस कर्मचारियों के लिए यह हफ्ता दोहरी खुशी लेकर आया है. एक तो कंपनी ने अपने कर्मचारियों को चौथी तिमाही में शानदार वित्‍तीय नतीजों पर 120 प्रतिशत वैरिएबल पे देने का ऐलान किया है. दूसरा, कंपनी का मार्केट कैप बढ़कर 6.5 लाख करोड़ रुपए का स्‍तर पार कर गया है. इससे वह रिलायंस को पछाड़कर देश की सबसे ज्‍यादा मार्केट कैप वाली कंपनी बन गई है. इस मुकाम पर पहुंचने वाली वह पहली भारतीय कंपनी है. गुरुवार को कंपनी ने चौथी तिमाही के नतीजे घोषित किए थे. पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, मार्च में खत्म वित्त वर्ष में टीसीएस में काम करनेवाले लोगों की तादाद बढ़कर 3.95 लाख हो गई जो वित्त वर्ष 2016-17 के मुकाबले 7,700 ज्यादा है.

2015 में दिया था 2628 करोड़ रुपये बोनस
टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने 2015 में कर्मचारियों को 2,628 करोड़ रुपये का एकबारगी बोनस दिया था. उस समय टीसीएस का चौथी तिमाही का शुद्ध लाभ 2,628 करोड़ रुपये के एकमुश्त कर्मचारी बोनस के समायोजन के बाद 27 प्रतिशत घटकर 3,858.2 करोड़ रुपये रह गया था। वहीं वित्‍त वर्ष 2017-18 में टीसीएस का शुद्ध लाभ 6904 करोड़ रुपए रहा. उसके शुद्ध लाभ में 5.7 फीसदी का उछाल दर्ज किया गया है. वहीं 31 दिसंबर, 2017 को खत्‍म तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 6531 करोड़ रुपए रहा था.

विफल कंपनी के रूप में देखे जाने पर टाटा हो गए थे दुखी
गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही टाटा समूह के चेयरमैन एमिरेट्स रतन टाटा कर्मचारियों के सामने भावुक हो गए थे. दरअसल, वे टाटा मोटर्स को एक विफल कंपनी बताए जाने से दुखी थे. उन्होंने कहा था कि टाटा मोटर्स के कर्मचारी फिर से इस कारोबार की प्रमुख कंपनी बनने की योजना बनाएं. उन्होंने कहा कि पिछले चार पांच साल में समूह की इस कंपनी की बाजार भागीदारी घटी है और जब देश इसे विफल कंपनी के रूप में देखता है तो दुख होता है.