लाखों की सैलरी छोड़ खेतीबाड़ी और पशुपालन करने विदेश से गुजरात लौटा कपल

दोनों दंपत्ति इंग्लैंड में लाखों की नौकरी कर रहे थे, जिसे छोड़कर वे वापस अपने देश लौट चुके हैं.

लाखों की सैलरी छोड़ खेतीबाड़ी और पशुपालन करने विदेश से गुजरात लौटा कपल
यहां ये खेतीबाड़ी के साथ-साथ पशुपालन भी करते हैं.

अजय शीलू, पोरबंदर: भारत की महान संस्कृति और विरासत को भूल आज हमारा युवाधन पश्चिमीकरण की और दौड़ा जा रहा है. आदमी अपने जीवन में पैसे तो मेहनत करके कभी भी कमा सकता है, लेकीन माता-पिता और परिवार से बढ़कर मूल्यवान कोई चीझ नहीं होती. इस बात को पोरबंद के रहने वाले भारती खुटी ने साबित किया है. ये दंपत्ति इंग्लैंड में लाखों की नौकरी कर रहे थे. लेकिन, सबकुछ छोड़कर इन्होंने खेतीबारी और पशुपालन शुरू कर दिया है. ये कपल आज आसपास के लोगों के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं.

रामदेव खुटी पहली बार 2006 में काम करने के लिए इंग्लैंड गए थे. दो साल वहां नौकरी करने के बाद रामदेव वापस भारत लौट आए. 2009 में रामदेव की शादी भारती से हुई. भारती ने एयरपोर्ट मैनेजमेंट और एयर होस्टेस की पढ़ाई की है. 2010 में दोनों इंग्लैंड चले गए. वहां भारती ने इंटरनेशनल टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई पूरी की. दोनों वहां अच्छी नौकरी कर रहे थे.

This Gujarat  Couple left million rupees jobs in UK and doing farming

बाद में दोनों ने अपने मां-बाप के पास लौटने का फैसला किया. गांव लौटने के बाद दोनों ने मिलकर खेतीबाड़ी और पशुपालन करने का फैसला किया. इस फैसले से गांव के कई लोग अवाक रह गए. लेकिन, इनका कहना है कि यह बहुत अच्छा बिजनेस है. सही तरीके से खेतीबाड़ी और पशुपालन करने के से अच्छा पैसा कमाया जा सकता है. साथ में इनका यह भी कहना है कि माता-पिता और अपने परिवार के साथ रहने की भी अलग खुशी होती है. सबकुछ पैसा नहीं होता है. युवाओें के लिए यह एक संदेश भी है जो परिवार को छोड़कर पैसे के लिए सात समंदर पार रहते हैं.