ऑफर्स देने के बावजूद नहीं बिक रहे वाहन, जानिए कैसे हो सकते हैं कंपनियों के पहली तिमाही के नतीजे

वित्तीय सेवा फर्म जेफेरीज के सोमवार को जारी एक शोधपत्र में यह संभावना जताई गई है. रिपोर्ट के अनुसार आने वाले दिनों में मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki), टीवीएस (TVS) और बजाज ऑटो (Bajaj Auto) जैसी कई वाहन कंपनियां अपने जून तिमाही परिणाम जारी करने जा रही हैं.

ऑफर्स देने के बावजूद नहीं बिक रहे वाहन, जानिए कैसे हो सकते हैं कंपनियों के पहली तिमाही के नतीजे
फाइल फोटो

मुंबई: कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी और लॉकडाउन ने वाहन बनाने वाली कंपनियों की कमर तोड़ दी है. मई और जून में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने  के बावजूद कार (Car), मोटर बाइक (Motor Bike) और ट्रक (Truck) बनाने वाली कंपनियों को खास फायदा नहीं मिल पाया है. मौजूदा हालात के चलते अप्रैल-जून तिमाही में घरेलू वाहन कंपनियों की बिक्री में भारी गिरावट रही. इसके चलते उनके 2020-21 की पहली तिमाही के कारोबार परिणाम निराशाजनक रह सकते हैं.

वित्तीय सेवा फर्म जेफेरीज के सोमवार को जारी एक शोधपत्र में यह संभावना जताई गई है. रिपोर्ट के अनुसार आने वाले दिनों में मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki), टीवीएस (TVS) और बजाज ऑटो (Bajaj Auto) जैसी कई वाहन कंपनियां अपने जून तिमाही परिणाम जारी करने जा रही हैं.

93 फीसदी तक घटी है ट्रकों की बिक्री
जेफेरीज ने एक शोधपत्र में कहा, ‘‘कोविड-19 संकट के बीच वाहनों की बिक्री में भारी गिरावट के चलते 2020-21 की पहली तिमाही घरेलू वाहन कंपनियों के लिए सबसे बुरी तिमाहियों में से एक रहने की आशंका है.‘‘ शोधपत्र के अनुसार सालाना आधार पर यात्री वाहन और दुपहिया वाहनों की बिक्री में इस दौरान 74 से 78 प्रतिशत गिरावट आई है. जबकि ट्रकों की बिक्री 93 प्रतिशत गिरी है. रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रैक्टरों की बिक्री में गिरावट अन्य की अपेक्षा थोड़ी संभली रही. इनकी बिक्री 18 से 20 प्रतिशत गिरने की ही संभावना है. जबकि दुपहिया वाहनों का निर्यात 62 प्रतिशत तक गिरा है.

जेफेरीज ने कंपनियों की अप्रैल-जून तिमाही की बिक्री में गिरावट के आधार पर वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में वाहनों के मूल कलपुर्जे बनाने वाली कंपनियों की आय में सालाना आधार पर 71 प्रतिशत तक गिरावट आने का अनुमान लगाया है.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार ने आज से लागू कर दिया ये नया कानून, अब धोखाधड़ी करने वालों की खैर नहीं

जेफेरीज ने यह रिपोर्ट विभिन्न श्रेणियों के वाहन बनाने वाली नौ कंपनियों के आंकड़ों का विश्लेषण कर बनाई है. इसमें अशोक लीलैंड, बजाज ऑटो, हीरो मोटोकॉर्प, मारूति सुजुकी, आयशर मोटर्स, महिंद्रा एंड मिहिंद्रा, टीवीएस मोटर, मदरसन सूमी और भारत फोर्ज शामिल हैं.