थोक महंगाई दर में हुई बढ़ोतरी, दिसंबर में 2.59 फीसदी पर पहुंची

दो महीनों से इसमें इजाफा हो रहा है. 

थोक महंगाई दर में हुई बढ़ोतरी, दिसंबर में 2.59 फीसदी पर पहुंची
प्रतीकात्मक तस्वीर....

नई दिल्ली: मंगलवार को थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आधिकारिक आंकड़े जारी हुए हैं. दिसंबर महीने में थोक महंगाई दर 2.59 फीसदी पर पहुंच गई है. नवंबर में यह 0.58 फीसदी थी. दो महीनों से इसमें इजाफा हो रहा है. एक दिन पहले ही खुदरा महंगाई दर पांच साल के उच्चतम स्तर पर पहुंची गई है. दिसंबर में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 7.35 फीसदी के आंकड़े पर पहुंच गई.

जानिए खाद्य व गैर खाद्य वस्तुओं की थोक महंगाई दर
पिछले महीने खाद्य वस्तुओं की थोक महंगाई दर 13.24 फीसदी रही है. जबकि नवंबर में यह 11 फीसदी थी. प्याज की महंगाई दर 455.8 फीसदी रही, जो नवंबर में 172.3 फीसदी थी. इसी तरह दालों की बात करें, तो यह 13.11 फीसदी रही, जो नवंबर में ज्याद यानी 16.59 फीसदी थी. गैर-खाद्य वस्तुओं की थोक महंगाई दर 1.93 फीसदी से बढ़कर 7.72 फीसदी पर आ गई. वहीं मैन्युफैक्चरिंग उत्पादों की बात करें, तो इसकी थोक महंगाई दर -0.25 फीसदी है. 

प्राइमरी आर्टिकल इन्फ्लेशन दिसंबर में 11.46 रही, जो ठीक एक महीने पहले 7.68 प्रतिशत थी. मैन्‍युफैक्‍चर्ड प्रोडक्‍ट की थोक महंगाई दर की बात करें तो इसमें कमी आई है और यह नवंबर के 0.84 फीसदी की तुलना में दिसंबर में 0.25 फीसदी रही है. पिछले साल के आखिरी महीने में सब्जियों के दाम में दिसंबर, 2018 के मुकाबले 60.5 फीसदी की तेजी दर्ज की गई. राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय की ओर से जारी आंकड़े के मुताबिक दिसंबर में खाने-पीने की चीजों के दाम में 14.12 फीसदी की तेजी दर्ज की गई. 

टूटा खुदरा महंगाई दर के पिछले चार सालों का रिकॉर्ड
दिसंबर माह में प्याज, टमाटर सहित खाद्य तेलों की महंगाई ने खुदरा महंगाई दर के पिछले चार सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. दिसंबर में खुदरा महंगाई दर 7.35 फीसदी रही थी. यह भारतीय रिजर्व बैंक के अनुमान (दो से छह फीसदी) से भी ज्यादा पहुंच गई. हालांकि कोर महंगाई दर अभी 3.7 फीसदी है, जो पिछले साल के मुकाबले थोड़ी से ज्यादा है. इससे पहले जुलाई 2016 में यह सर्वाधिक रही थी.