Zee Rozgar Samachar

जानें सोशल मीडिया पर क्यों वायरल हुई सुधा मूर्ति की यह तस्वीर

देश की दिग्गज आईटी कंपनी इंफोसिस की चेयरपर्सन और एन.आर. नारायण मूर्ति की पत्नी सुधा मूर्ति रविवार को सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंड हो रही है. 

जानें सोशल मीडिया पर क्यों वायरल हुई सुधा मूर्ति की यह तस्वीर
सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर में बताया जा रहा है कि सुधा मूर्ति एक दिन सब्जी बेचती हैं, हालांकि ये सही फैक्ट नहीं है.

नई दिल्लीः देश की दिग्गज आईटी कंपनी इंफोसिस (Infosys) की चेयरपर्सन और एन.आर. नारायण मूर्ति की पत्नी सुधा मूर्ति (Sudha Murthy) का नाम रविवार को सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंड हो रहा है. सोशल मीडिया पर उनकी एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसमें वो कई सारी सब्जियों के बीच में बैठी हुई हैं. इस तस्वीर के साथ ही लिखा जा रहा है कि वो एक दिन सब्जी की दुकान पर सब्जी बेचती हैं ताकि वो इतनी अमीर होने के कारण आए अपने अहंकार को खत्म कर सकें.

यह है वायरल हो रही खबर और फोटो का सच
जो फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है वो चार साल पुरानी तस्वीर है. गूगल रिवर्स इमेज सर्च पर जी न्यूज को पता चला कि ये तस्वीर 2016 की है. हालांकि फोटो पुरानी है, लेकिन सुधा मूर्ति हर साल परोपकारी कार्य के तहत अपने जयनगर, बेंगलूरू के पास स्थित राघवेंद्र स्वामी मंदिर में आयोजित होने वाले राघवेंद्र अराधनाउत्सव में तीन दिनों के लिए कार सेवा करती है.

तीन दिन तक चार घंटे करती हैं कारसेवा
सुधा मूर्ति अपने घर पर सुबह चार बजे उठकर एक सहयोगी के साथ मंदिर के भोजनालय में जाती हैं. इसके बाद वो भोजनालय और बगल में स्थित कमरों को साफ करती हैं. इसके बाद भोजनालय के बर्तनों को साफ करती हैं, फिर शेल्फ की सफाई, सब्जियों का स्टॉक लेती हैं, सब्जियां कटवाती हैं. फिर मंदिर के बरामदे में झाडू लगाने के बाद खाली पड़े डिब्बों को कूड़ेदान में डालती हैं. इसके बाद अपने सहयोगी की मदद से सब्जियों और चावल के बड़ी बोरियों को मंदिर के स्टोर रूम में पहुंचाने में मदद करती हैं. सुबह नौ बजे वो वापस अपने दो मंजिला घर में आ जाती हैं.

यह भी पढ़ेंः Cheque Bounce होना नहीं होगा Crime, वित्त मंत्रालय ने कैबिनेट सचिवालय को लिखा पत्र

इसलिए करती हैं कार सेवा
2013 में एक अखबार को दिए गए इंटरव्यू में सुधा मूर्ति ने कहा कि 'पैसा देना सरल है, लेकिन शारिरिक सेवा नहीं. सिखों की कारसेवा से सीख लेते हुए कई बार दिल्ली के एक गुरूद्वारे में आने वाले श्रद्धालूओं के जूते-चप्पल का भी ध्यान रखती हैं.' मंदिर के प्रबंधकों के अनुसार सुधार हर साल तीन दिन के लिए स्टोर मैनेजर की भूमिका में रहती हैं.  

नहीं बेचती हैं सब्जियां 
फैक्ट चेक में एक बात साबित हो गई है सुधा मूर्ति सब्जियां नहीं बेचती हैं, बल्कि मठ में तीन दिनों के लिए स्टोर में आने वाली सब्जियों के स्टॉक को चेक करती हैं और इसके लिए वो जमीन पर सब्जियों के बीच में जाकर के बैठ जाती हैं. 

ये भी देखें---

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.