Yes Bank in Profit : पूरे 2 साल बाद मुनाफे में लौटा यह बड़ा बैंक, खबर से ख‍िल गए न‍िवेशकों के चेहरे
topStories1hindi1169750

Yes Bank in Profit : पूरे 2 साल बाद मुनाफे में लौटा यह बड़ा बैंक, खबर से ख‍िल गए न‍िवेशकों के चेहरे

Yes Bank in Profit : दो फाइनेंश‍ियल ईयर के बाद प्राइवेट सेक्‍टर का बड़ा बैंक यस बैंक (Yes Bank) मुनाफे में लौट आया है. बैंक के मुनाफे में आने से न‍िवेशक राहत महसूस कर रहे हैं.

Yes Bank in Profit : पूरे 2 साल बाद मुनाफे में लौटा यह बड़ा बैंक, खबर से ख‍िल गए न‍िवेशकों के चेहरे

Yes Bank in Profit : प्राइवेट सेक्‍टर के यस बैंक (Yes Bank) फ‍िर से मुनाफे में आ गया है. यस बैंक ने फाइनेंश‍ियल ईयर 2021-22 में 1,066 करोड़ रुपये का लाभ कमाकर शानदार प्रदर्शन क‍िया है. इसके साथ ही बैंक फ‍िर से प्रॉफ‍िट में आ गया है. यस बैंक की तरफ से शनिवार को चौथी तिमाही के नतीजे घोषित क‍िए गए. इस दौरान बैंक ने बताया क‍ि वह फिर से लाभ की स्थिति में आ गया है.

1,066 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ

इससे पहले फाइनेंश‍ियल ईयर 2020-21 में बैंक को 3,462 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था. उससे पहले 2019-20 में 22,715 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था. फाइनेंश‍ियल ईयर 2018-19 के बाद यह पहला मौका है जब यस बैंक किसी वित्त वर्ष में लाभ अर्जित करने में सफल रहा है. बैंक ने हाल में पूरे हुए वित्त वर्ष 2021-22 में कुल 1,066 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया है.

एक साल पहले 3,788 करोड़ का घाटा

बैंक ने शेयर बाजार (Share Market) को अपने वित्तीय नतीजों की जानकारी देते हुए बताया क‍ि जनवरी -मार्च 2022 तिमाही में 367 करोड़ रुपये का लाभ कमाया है. एक साल पहले की समान अवधि में बैंक को 3,788 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था. दिसंबर 2021 में समाप्त तीसरी तिमाही में उसे 266 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था.

चौथी तिमाही में बैंक की कुल आय 5,829.22 करोड़ रुपये रही जबकि जनवरी-मार्च 2021 तिमाही में यह 4,678.59 करोड़ रुपये थी. हालांकि पूरे साल में यस बैंक की कुल आय 22,285.98 करोड़ रुपये रही, जो वित्त वर्ष 2020-21 के 23,053.54 करोड़ रुपये के मुकाबले कम है.

बैंक ने कहा कि फाइनेंश‍ियल ईयर 2021-22 में उसकी जमाओं में इजाफा देखने को म‍िला. बैंक के फंसे कर्जों की हिस्सेदारी भी 5.9 फीसदी से घटकर 4.5 फीसदी पर आ गई. मार्च 2022 के आख‍िर में बैंक का एनपीए 13.9 प्रत‍िशत रहा, जबकि वित्त वर्ष 2020-21 में यह अनुपात 15.4 प्रत‍िशत था.

Trending news