close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

World Cup 2019: हार्दिक पांड्या वर्ल्ड कप में 'ट्रंप कार्ड' साबित हो सकते हैं, सर्वे में खुलासा

भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पांड्या के फैंस की संख्या काफी बढ़ी है.

World Cup 2019: हार्दिक पांड्या वर्ल्ड कप में 'ट्रंप कार्ड' साबित हो सकते हैं, सर्वे में खुलासा
इस विश्व कप में पांड्या भारत के लिए तुरुप का इक्का ट्रंप कार्ड साबित होंगे. (फोटो साभार: Instagram)

नई दिल्ली: आईसीसीसी क्रिकेट विश्व कप (ICC Cricket World Cup 2019) शुरू होने से पहले क्रिकेट से जुड़ी सभी चीजों के लिए डिजिटल गंतव्य बनी ईएसपीएनक्रिकइंफो ने अपने फैनटास्टिक सर्वेक्षण के तीसरे संस्करण के परिणामों की घोषणा की. सर्वेक्षण के मुताबिक, भारतीय क्रिकेट टीम के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) के प्रशंसकों की संख्या काफी बढ़ी है और सर्वेक्षण में शामिल करीब आधे प्रतिभागियों को लगता है कि इस विश्व कप में पांड्या भारत के लिए तुरुप का इक्का (ट्रंप कार्ड) साबित होंगे.

इस सर्वेक्षण में मुंबई, दिल्ली, चंडीगढ़, गुरुग्राम, बेंगलुरु, कोलकाता, चेन्नई, इंदौर, पटना और जयपुर सहित भारत के 200 शहरों में सभी आयु वर्ग के करीब 2420 प्रतिभागियों ने अपने विचार साझा किए.

इस बात का मलाल
91 प्रतिशत से अधिक भारतीय इस बात से खुश हैं कि अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) विश्व कप टीम का हिस्सा हैं. वहीं, दूसरी ओर 64 प्रतिशत से अधिक प्रतिभागियों को इस बात का मलाल है कि अब उन्हें दक्षिण अफ्रीका के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज अब्राहम डीविलियर्स का जलवा देखने को नहीं मिलेगा.

हार का सामना करना पड़े
सर्वेक्षण के अनुसार 71 प्रतिशत प्रतिभागियों को लगता है कि भारत खिताब जीतकर अपने घर आएगा. हालांकि 28 प्रतिशत का मानना है कि भारत को शायद फाइनल में हार का सामना करना पड़े.

वर्ल्ड कप की तैयारी
ईएसपीएन इंडिया और दक्षिण एशिया के उपाध्यक्ष रमेश कुमार ने कहा, "प्रशंसक परफॉर्मेस के स्पष्ट आलोचक एवं भविष्यवक्ता होते हैं और हम उन विचारों को सुनना पसंद करते हैं. यह साल क्रिकेट के लिए बहुत ही शानदार है क्योंकि हमने आईपीएल के सबसे बड़े सत्रों में से एक का समापन किया है और अब आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप की तैयारी जोरों पर है. यह बात सर्वेक्षण में भी दिखाई देती है."

(इनपुट-आईएएनएस)