close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ICC World Cup: सचिन ने धोनी से कहा- पॉजिटिव बैटिंग करो... और हो गए ट्रोल आर्मी के शिकार

सचिन तेंदुलकर ने भारत और अफगानिस्तान मैच के बाद कहा था कि उन्हें धोनी की बैटिंग में सकारात्मकता की कमी दिखी. 

ICC World Cup: सचिन ने धोनी से कहा- पॉजिटिव बैटिंग करो... और हो गए ट्रोल आर्मी के शिकार

बर्मिंघम: आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप (ICC Cricket World Cup) में कॉमेंट्री कर रहे मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ‘ट्रोल आर्मी’ के शिकार हो गए हैं. सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को ट्रोल करने वाले कोई और नहीं, भारत के ही क्रिकेट प्रशंसक हैं. सचिन ने अफगानिस्तान के मुकाबले में एमएस धोनी (MS Dhoni) की बैटिंग की आलोचना की थी. धोनी के प्रशंसकों को यह बात हजम नहीं हुई और उन्होंने सचिन तेंदुलकर को ही ‘ज्ञान’ देना शुरू कर दिया. धोनी ने अफगानिस्तान के मुकाबले में 52 गेंदों पर 28 रन बनाए थे. 

सचिन तेंदुलकर ने मैच के बाद कहा था, ‘सच कहूं तो मुझे थोड़ी निराशा हुई. बैटिंग और बेहतर हो सकती थी. मुझे केदार जाधव (Kedar Jadhav) और धोनी (MS Dhoni) की साझेदारी से भी निराशा हुई, जो काफी धीमी थी. हमने स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ 34 ओवर बल्लेबाजी की और 119 रन बनाए. हम बिल्कुल भी सहज नहीं दिखे. सकारात्मक रवैये की कमी दिखी.’

यह भी पढ़ें: World Cup 2019: इमरान खान के बाद अकरम ने पाकिस्तानी टीम को टिप्स दिए, क्या सरफराज मानेंगे?

सचिन तेंदुलकर के इस बयान पर सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिली. धोनी के प्रशंसक इसके बाद सचिन तेंदुलकर के ही खेल पर सवाल उठाने लगे. एक यूजर ने तो इन दोनों क्रिकेटरों पर बनी फिल्म की तुलना करते हुए यह जताने की कोशिश की कि धोनी की फिल्म सुपरहिट थी और सचिन की फिल्म फ्लॉप थी. 
 

 

एक अन्य यूजर ने धोनी और सचिन के करियर की तुलना की है. उसने लिखा कि धोनी ने अपने करियर में आईसीसी की तीन ट्रॉफियां जीतीं. इसमें वनडे और टी20 वर्ल्ड कप शामिल हैं. दूसरी ओर सचिन ने अपने लंबे करियर में विश्व कप तभी जीता, जब धोनी टीम के कप्तान थे. 

 

 

हालांकि, सचिन तेंदुलकर के प्रशंसक भी जवाब देने में पीछे नहीं रहे. एक यूजर ने सचिन तेंदुलकर के 2003 के विश्व कप के रनों से धोनी के विश्व कप रनों की तुलना की. उसने बताया कि सचिन तेंदुलकर ने 2003 के विश्व कप में 697 रन बनाए थे. जबकि धोनी चार वर्ल्ड कप (2007, 2011, 2015 और 2019 में अब तक) मिलाकर 597 रन ही बना सके हैं. 

 

बता दें कि सचिन तेंदुलकर के नाम विश्व कप में सबसे अधिक 2278 रन दर्ज हैं. वे दुनिया के एकमात्र खिलाड़ी हैं, जिन्होंने विश्व कप में 2000 से अधिक रन बनाए हैं. उन्होंने विश्व कप में सबसे अधिक छह शतक लगाए हैं, जो सबसे अधिक हैं. धोनी ने वर्ल्ड कप के 24 मैचों में तीन अर्धशतक की मदद से 597 रन बनाए हैं. दोनों ही खिलाड़ियों के स्ट्राइक रेट लगभग बराबर हैं. धोनी ने विश्व कप में 89.10 और सचिन ने 88.98 की स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं.