close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: टीम इंडिया ने की 6 अलग-अलग एंगल से डायरेक्ट थ्रो की प्रैक्टिस, खिलाड़ी हुए लोटपोट

 आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप (World Cup 2019) में भारतीय टीम का पहला मैच पांच जून को दक्षिण अफ्रीका से होना है. 

VIDEO: टीम इंडिया ने की 6 अलग-अलग एंगल से डायरेक्ट थ्रो की प्रैक्टिस, खिलाड़ी हुए लोटपोट
डायरेक्ट थ्रो करने की प्रैक्टिस करते एमएस धोनी और उन्हें देखते कप्तान विराट कोहली. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप (World Cup 2019) शुरू हो चुका है. खिताब के दावेदार इंग्लैंड की शानदार जीत हो चुकी है. पाकिस्तान भी 105 रन पर ढेर होकर शर्मसार हो चुका है. अब भारतीय क्रिकेटप्रेमियों को अब टीम इंडिया (Team India) के मैच का इंतजार है. भारतीय टीम का पहला मैच पांच जून को दक्षिण अफ्रीका (South Africa) से होना है. भारतीय क्रिकेटर भी इस मैच से पहले कोई कोरकसर नहीं छोड़ना चाहते. इसके तहत वे ना सिर्फ बैटिंग और बॉलिंग, बल्कि फील्डिंग का भी स्पेशल ट्रेनिंग सेशन रख रहे हैं. इसी के तहत उन्होंने गुरुवार को फील्डिंग और विकेट पर थ्रो करने की स्पेशल ट्रेनिंग की. 

टीम के ट्रेनिंग सेशन के बाद फील्डिंग कोच आर. श्रीधर (R Sridhar) ने बताया, ‘आज हमने फील्डिंग का दिलचस्प सेशन किया. हमने तय किया कि आज विकेट पर डायरेक्ट थ्रो करने की ट्रेनिंग करेंगे. हमारा फोकस अलग-अलग एंगल से नॉनस्ट्राइकर एंड पर डायरेक्ट थ्रो करना था. हमने राउंड-ओक्लॉक ट्रेनिंग सेशन से शुरुआत की.’

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान ने इन 3 गेंदबाजों के सामने घुटने टेके, एक का तो यह पहला ICC World Cup है

आर. श्रीधर ने कहा, ‘राउंड-ओक्लॉक के बाद इसके बाद हमने छह अलग-अलग फील्डिग पोजीशन तय किए. यहां सभी खिलाड़ियों को 20-20 बार स्टंप को हिट करना था. इसके बाद हमने छोटा सा टेक्निकल सेशन किया. इसमें हमने खिलाड़ियों को स्ट्रॉन्ग ऑर्मपाथ के फायदे और तरीके बताए.’
 

श्रीधर ने बताया, ‘इस ट्रेनिंग सेशन के बाद हमने एक फनगेम खेला. इसमें खिलाड़ियों को स्टंप को हिट करना था. जो खिलाड़ी स्टंप हिट करते, वे ट्रेनिंग सेशन से बाहर होते जाते. जो खिलाड़ी हिट नहीं कर पाते, वे दोबारा लौटकर विकेट पर डायरेक्ट थ्रो करने की कोशिश करते. और अंत में सिर्फ एक खिलाड़ी बचा था, जो डायरेक्ट हिट नहीं कर पाया था. इस फनगेम में बहुत मजा आया और जब सिर्फ एक खिलाड़ी ट्रेनिंग सेशन में बचा था, तो बाकी हंसते-हंसते लोटपोट हो रहे थे. इस पूरे सेशन का लक्ष्य यह था कि खिलाड़ियों को डायरेक्ट थ्रो से जुड़े कुछ टेक्निकल इनपुट दिए जाएं.’