वकार यूनिस से उलट शोएब अख्तर बोले, 'भारत ने पूरी कोशिश की, अब हम उम्मीद के सहारे'

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर अपने हमवतन खिलाड़ी व पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वकार यूनिस (Waqar Younis) से उलट बयान दिया है. 

वकार यूनिस से उलट शोएब अख्तर बोले, 'भारत ने पूरी कोशिश की, अब हम उम्मीद के सहारे'
अख्तर ने कहा, "पाकिस्तान फैंस की दुआ भारत तक नहीं पहुंच सकी, वे मैच हार गए'

नई दिल्ली: पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने अपने हमवतन खिलाड़ी व पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वकार यूनिस (Waqar Younis) से उलट बयान दिया है. पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कोच वकार ने ट्विटर पर अपनी भड़ास निकालते हुए लिखा था, "यह मायने नहीं रखता कि तुम कौन हो.. आप जीवन में क्या करते हो इससे पता चलता है कि तुम कौन हो.. मुझे इसकी चिंता नहीं है कि पाकिस्तान सेमीफाइनल में पहुंचता है या नहीं लेकिन एक बात पक्की है .. कुछ चैंपियन्स की खेल भावना की परीक्षा ली गई और वे उसमें बुरी तरह असफल रहे." 

उधर, अख्तर ने परोक्ष रूप से वकार की बात का खंडन किया है. उनका मानना है कि भारतीय टीम ने आईसीसी विश्वकप में इंग्लैंड के खिलाफ अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश की, फिर भी वे मैच हार गए. मजेदार बात यह भी अख्तर ने भी पाकिस्तान फैंस से भारत की जीत के लिए दुआएं मांगने की सलाह दी थी. अख्तर ने कहा था, "मैं चाहता हूं कि पूरा पाकिस्तान टीम इंडिया की जीत के लिए दुआएं मांगे क्योंकि इससे इंग्लैंड टूर्नामेंट से बाहर हो जाएगा." 

 

अख्तर ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, "यह पहली बार था जब पाकिस्तान फैंस भी इंग्लैंड के खिलाफ भारत की जीत की दुआ कर रहे थे. हालांकि ऐसा लगा कि उनकी दुआ भारत तक नहीं पहुंच सकी और वे मैच हार गए." उन्होंने कहा, "विभाजन के बाद से यह पहली बार था कि हम भारत का समर्थन कर रहे थे. मुझे पूरा विश्वास है कि भारत ने अपनी पूरी कोशिश की, लेकिन उनकी यह कोशिश पाकिस्तान की मदद नहीं कर सकी और अब हमें उम्मीदें के सहारे रहना होगा." 

भारत अगर इंग्लैंड को हरा देता तो पाकिस्तान के लिए सेमीफाइनल की राह आसान हो जाती, लेकिन अब उसे सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए बांग्लादेश के खिलाफ अपना अंतिम लीग मैच हर हाल में जीतना होगा और दूसरी टीम के मैचो के परिणामों पर भी निर्भर रहना होगा.

पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा कि इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने परिस्थितियों का पूरा इस्तेमाल किया और भारतीय गेंदबाजी की पोल खोल दी. उन्होंने कहा, "जॉनी बेयरस्टो और जेसन रॉय तथा अन्य इंग्लिश बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों की पोल खोल दी. मुझे लगता है अगर यह 300 रन का लक्ष्य होता तो भारत इसे हासिल कर सकता था. हालांकि ऐसा नहीं हो सका और हमें निराशा हाथ लगी."

(इनपुट IANS से)