close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

INDvsNZ, World Cup 2019: भारत ने पहली गेंद पर गंवाया DRS, ऐसा पहली बार हुआ

न्यूजीलैंड ने विश्व कप के सेमीफाइनल मुकाबले में भारत के खिलाफ टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने का फैसला लिया है. 

INDvsNZ, World Cup 2019: भारत ने पहली गेंद पर गंवाया DRS, ऐसा पहली बार हुआ
भुवनेश्वर कुमार और एमएस धोनी को उम्मीद थी कि विकेट मिल गया है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. (फोटो: Reuters)

नई दिल्ली/मैनचेस्टर: भारत और न्यूजीलैंड मंगलवार को आईसीसी विश्व कप (ICC World Cup) का पहला सेमीफाइनल खेल रहे हैं. भारतीय टीम (Team India) की मैच में अच्छी शुरुआत नहीं हुई है. टीम ने पहले तो टॉस गंवाया. फिर पहले गेंदबाजी करते हुए डीआरएस (DRS) भी गंवा दिया. दोनों टीमों के बीच यह मुकाबला मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड ग्राउंड पर हो रहा है. आसमान में बादल छाए हुए हैं. बारिश के आसार हैं.

भारतीय टीम ने सेमीफाइनल के लिए अपनी प्लेइंग इलेवन में एक बदलाव किया है. कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने बताया कि युजवेंद्र चहल टीम में लौट आए हैं. उन्हें कुलदीप यादव की जगह शामिल किया गया है. न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन (Kane Williamson) ने भी अपनी प्लेइंग इलेवन में एक ही बदलाव किया है. उसके तेज गेंदबाज टिम साउदी की जगह लॉकी फर्ग्युसन प्लेइंग इलेवन में लौट आए हैं. 

यह भी पढ़ें: INDvsNZ, World Cup 2019: विराट ने कहा- पिच अच्छी है, टॉस हारने से नुकसान नहीं होगा

भारत की ओर से इस मैच में पहला ओवर भुवनेश्वर कुमार (Bhuvaneshwar Kumar) ने फेंका. उनकी पहली ही गेंद मार्टिन गप्टिल के पैरों पर लगी. वे एक्रॉस द लाइन खेलने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन चूक गए. भारतीय खिलाड़ियों ने आउट की अपील की, लेकिन इंग्लिश अंपायर ने इसे ठुकरा दिया. इसके बाद कप्तान विराट कोहली ने DRS (धोनी रिव्यू सिस्टम) के नाम से ही मशहूर धोनी और गेंदबाज भुवी से इस बारे में पूछा. 

एमएस धोनी (MS Dhoni) और भुवी से ग्रीन सिग्नल मिलने के बाद कप्तान कोहली ने डीआरएस (डिसीजन रिव्यू सिस्टम) के लिए अपील की. थर्ड अंपायर ने डीआरएस की अपील भी ठुकरा दी. इतना ही नहीं, भारत ने अपना डीआरएस भी गंवा दिया. दरअसल, टीवी रिप्ले में साफ दिखा कि भुवी की गेंद जब गप्टिल के पैड से टकराई, तो वह लेग स्टंप के बाहर जा रही थी. इस कारण उसका डीआरएस का मौका भी जाता रहा. यह आईसीसी विश्व कप में पहला मौका है, जब भारत ने किसी मैच की पहली ही गेंद पर अपना डीआरएस गंवा दिया है.