close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वर्ल्ड कप: गुप्टिल के ओवरथ्रो पर 6 रन देने वाले अंपायर धर्मसेना बोले, 'गलती हुई, लेकिन...'

वर्ल्ड कप-2019 के फाइनल में ओवरथ्रो पर दिए गए 4 रन को लेकर काफी विवाद रहा है.

वर्ल्ड कप: गुप्टिल के ओवरथ्रो पर 6 रन देने वाले अंपायर धर्मसेना बोले, 'गलती हुई, लेकिन...'
मैदानी अंपायर कुमार धर्मसेना ने अपने साथी अंपायरों से बात करने के बाद छह रन इंग्लैंड को दिए थे. (फोटो साभार: Twitter)

नई दिल्ली: आईसीसी विश्व कप-2019 (World Cup 2019) के फाइनल में ओवरथ्रो के चार देने वाले मैदानी अंपायर कुमार धर्मसेना ने स्वीकार किया है कि विश्व कप फाइनल में इंग्लैंड को चार देना उनकी गलती थी और उन्हें एक रन देना चाहिए था. आईसीसी विश्व कप-2019 के फाइनल में ओवरथ्रो पर दिए गए चार रन को लेकर काफी विवाद रहा है. यह चार रन इंग्लैंड की न्यूजीलैंड पर जीत में काफी निर्णायक साबित हुए थे.

फाइनल मैच के अंतिम ओवर में 242 रनों का पीछा कर रही इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने दो रन दौड़कर लिए थे और दूसरे रन लेने के दौरान फील्डर का थ्रो बेन स्टोक्स के बल्ले से टकरा पर बाउंड्री पार चला गया था, जिससे इंग्लैंड के खाते में चार रन आए थे.

मैदानी अंपायर कुमार धर्मसेना ने अपने साथी अंपायरों से बात करने के बाद छह रन इंग्लैंड को दिए थे. इंग्लैंड इससे मैच में वापस आ गई थी.

यह भी पढ़ें- दुनिया भर में तूल पकड़ रहा एक्स्ट्रा रन विवाद, ECB निदेशक ने खारिज कर दी यह दलील

धर्मसेना ने श्रीलंका के अखबार संडे टाइम्स से कहा, "अब टीवी पर रीप्ले देखने के बाद मैं स्वीकार करता हूं कि फैसला करने में गलती हुई थी. लेकिन मैदान पर टीवी रीप्ले देखने की सहूलियत नहीं थी और मुझे अपने फैसले पर कभी मलाल नहीं होगा."

यह भी पढ़ें- गुप्‍ट‍िल एक थ्रो से बने न्‍यूजीलैंड के हीरो, तो दूसरे ने उनकी टीम को दिया सबसे बड़ा दर्द

पूर्व अंपायर साइमन टॉफेल ने हालांकि अंपायरों के 6 रन देने के फैसले को गलत बताया था और कहा था कि यहां छह रन के बजाय 5 रन देने चाहिए थे, क्योंकि बल्लेबाजों ने दूसरा रन पूरा नहीं किया था.

यह भी पढ़ें- World Cup 2019: ECB निदेशक ने Extra रन के विवाद को बताया काल्पनिक, कहा- अब इंग्लैंड...

श्रीलंका के धर्मसेना ने कहा, "मैंने संवाद प्रणाली के जरिये लेग अंपायर से सलाह ली, जिसे सभी अन्य अंपायरों और मैच रैफरी ने सुना. वे टीवी रीप्ले नहीं देख सकते थे, उन सभी ने पुष्टि की कि बल्लेबाजों ने दूसरा रन पूरा कर लिया है. इसके बाद मैंने अपना फैसला किया."

(इनपुट-आईएएनएस)