close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर मना रहे हैं अपना 70वां जन्मदिन

सुनील गावस्कर अपना 70वां जन्मदिन मना रहेेे हैं. भारत के लिए खेलते हुए कई रिकॉर्ड अपने नाम किये.

लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर मना रहे हैं अपना 70वां जन्मदिन
पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर का आज 70वां जन्मदिन है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारत के दिग्गज बल्लेबाजों में शामिल लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर आज (10 जुलाई) अपना 70वां जन्मदिन मनाएंगे. 10 जुलाई 1949 को जन्मे गावस्कर ने अपने पूरे करियर में तमाम रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं. गावस्कर दुनिया के पहले बल्लेबाज थे, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 10 हजार रन पूरे किए. उनकी सबसे बड़ी खूबी यह थी कि तूफानी गेंदबाजी के खिलाफ भी अच्छी बैटिंग करते थे. उनकी तेज गेंदबाजों के खिलाफ तकनीक की पूरी दुनिया मुरीद थी. 

बेहतरीन करियर-  
 सुनील गावस्कर ने भारत के लिए 53 टेस्ट मैचों में कप्तानी की और अपने 16 साल के बेहतरीन करियर में कई रिकॉर्ड अपने नाम किए. गावस्कर ने अपना टेस्ट डेब्यू 1971 में वेस्टइंडीज के खिलाफ किया और अपने पहले ही मैच में 65 रन की अर्धशतकीय पारी खेली थी. अपने पूरे करियर में इन्होंने 125 टेस्ट खेले जिसमें लगभग 52 की औसत से 10122 रन बनाए. 108 वनडे मैचों के सफर में लिटिल मास्टर के बल्ले से 3092 रन निकले हैं.

पूरे करियर में किए तमाम रिकॉर्ड अपने नाम-
अपने 16 साल के लंबे करियर में गावस्कार ने अपने और देश के नाम कई रिकॉर्ड कायम किया.
1. गावस्कार दुनिया के पहले बल्लेबाज है जिन्होंने सबसे तेज 1000 रन बनाए है. केवल 6 टेस्ट मैचों के सफर में उन्होंने यह रिकॉर्ड अपने नाम किया है.  
2. किसी भी टीम के साथ एक सीरीज में सबसे ज्यादा रन 774 बनाने वाले खिलाड़ी हैं.
3. टेस्ट क्रिकेट में 10,000 रन बनाने वाले पहले क्रिकेटर. 
5. 18 विभिन्न खिलाड़ियों के साथ 58 शतकीय साझेदारी का रिकॉर्ड भी गावस्कार के नाम हैं.

 

 

क्यों थे लिटिल मास्टर खास ?
1970 और 1980 के दशक के दौरान गावस्कर भारत के बल्लेबाजी के मुख्य आधार थे. जैसा कि उन्होंने प्रसिद्ध रूप से कहा, "जब तक गावस्कर थे, तब तक आशा थी". गावस्कर अपनी बेदाग रक्षा के लिए जाने जाते थे. लंबे समय तक क्रीज पर रहने की उनकी क्षमता अद्भुत थी. लिटिल मास्टर के रिकॉर्ड की सूचि का कोई अंत नही हैं,1983 में कपिल देव की कप्तानी में वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे हैं.