close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वर्ल्ड कप: भारत की हार के बाद दूसरे सेमीफाइनल में नहीं दिख रहा उत्साह, खाली पड़ीं सीटें

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के मैच में जब टॉस हुआ तब काफी सीटें खाली पड़ी थीं.

वर्ल्ड कप: भारत की हार के बाद दूसरे सेमीफाइनल में नहीं दिख रहा उत्साह, खाली पड़ीं सीटें
विश्व कप के दूसरे सेमीफाइनल मैच के दौरान एजबेस्टन क्रिकेट स्टेडियम में खाली सीटें. (फोटो: IANS)

बर्मिघम: आईसीसी विश्व कप-2019 (World Cup 2019) का दूसरा सेमीफाइनल गुरुवार को एजबेस्टन क्रिकेट ग्राउंड पर ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड (Australia vs England) के बीच खेला जा रहा है, लेकिन इस मैच में दर्शकों द्वारा ज्यादा उत्साह देखने को नहीं मिल रहा है. स्टेडियम तक पहुंचने वाली सड़कें खाली हैं, इस माहौल को देखकर ऐसा प्रतीत हो रहा है कि भारत के विश्व कप से बाहर होने का बाकी के टूर्नामेंट पर असर पड़ा है क्योंकि सभी ने टिकट इसलिए कराए थे कि वह देखना चाहते थे कि भारत से फाइनल में किसका सामना होगा. इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के मैच में जब टॉस हुआ तब काफी सीटें खाली पड़ी थीं.

'सब कुछ खत्म'
विश्व कप की आयोजन समिति के एक वोलेंटियर ने बताया कि यह विश्वास करना मुश्किल है कि दो पुराने प्रतिद्वंद्वी यहां नॉकआउट मैच खेल रहे हैं. उन्होंने कहा, "भारत के जाने के बाद, ऐसा लग रहा है कि सब कुछ खत्म हो चुका है. कुछ दिन पहले इसी मैदान पर भारत और इंग्लैंड का मैच हुआ था और तब मैदान पूरा पैक था. हमें भारतीय प्रशंसकों को संभालने में काफी मुश्किल हुई थी. वह खिलाड़ियों को स्टेडियम के अंदर आते देखना चाहते थे, उनके साथ फोटो खिंचवाते हुए देखना चाहते थे."

मैदान के अंदर आए दर्शक
उन्होंने कहा, "और आज, दरवाजे खुलने के एक घंटे बाद तक बहुत कम लोग ही मैदान के अंदर आए थे. हां, यह मैच सप्ताह के बीच में है, लेकिन विश्वास कीजिए कि अगर भारत विश्व कप में बने रहता तो चीजें काफी अलग होतीं."

फाइनल में उम्मीद नहीं
वोलेंटियर ने चैम्पियंस ट्रॉफी 2017 का फाइनल याद करते हुए कहा कि इस समय मैदान के बाहर लंबी कतारें थीं.  उन्होंने कहा, "चैम्पियंस ट्रॉफी के फाइनल में जब भारत और पाकिस्तान का मैच था तब मैं वहां था. उस समय दर्शक दरवाजे खुलने के घंटों बाद तक स्टेडियम के बाहर खड़े थे. भारत और पाकिस्तान के बीच के मैच का जुनून अलग ही है. मुझे नहीं लगता कि इस बार फाइनल में उस जैसा माहौल होगा."