close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: अंपायर के गलत फैसले का शिकार हुए धोनी? जानें क्या है सच

महेंद्र सिंह धोनी न्यूजीलैंड के खिलाफ धोनी जब पर थे, तब भारत को जीत के लिए 10 गेंदों पर 25 रन की जरूरत थी. 

VIDEO: अंपायर के गलत फैसले का शिकार हुए धोनी? जानें क्या है सच
महेंद्र सिंह धोनी न्यूजीलैंड के खिलाफ 50 रन बनाकर आउट हुए. (फोटो: IANS)

नई दिल्ली: आईसीसी विश्व कप (ICC World Cup 2019) में बेहद करीबी मुकाबले में हार के साथ ही भारतीय टीम टूर्नामेंट से बाहर हो चुकी है. अंडरडॉग मानी जाने वाली न्यूजीलैंड (New Zealand) की टीम ने उसे सेमीफाइनल में 18 रन से हरा दिया. न्यूजीलैंड की टीम लगातार दूसरी बार फाइनल में पहुंची है. दूसरी ओर, भारतीय टीम लगातार दूसरी बार सेमीफाइनल हार गई. भारत की हार में एक बार की समानता रही कि 2015 की तरह 2019 के सेमीफाइनल में भी एमएस धोनी (MS Dhoni) आखिर में संघर्ष करते रहे, लेकिन जीत नहीं दिला पाए. धोनी न्यूजीलैंड के खिलाफ बुधवार को रनआउट हुए और इससे एक विवाद भी खड़ा हो गया. 

महेंद्र सिंह धोनी का रनआउट होना टीम इंडिया के लिए निर्णायक साबित हुआ. वे 49वें ओवर की तीसरी गेंद पर रन आउट हुए. उनके आउट होने के बाद भारत को जीत के लिए 9 गेंद पर 24 रन चाहिए थे. धोनी के आउट होने के बाद भुवनेश्वर कुमार और युजवेंद्र चहल क्रीज पर थे. जाहिर है, इन दोनों से जीत दिलाने की उम्मीद करना कुछ ज्यादा ही था. हां, अगर धोनी क्रीज पर होते तो जीत संभव थी. 

यह भी पढ़ें: World Cup 2019: हार का सबसे बड़ा नासूर, जिसे टीम इंडिया हमेशा छुपाती रही...

एमएस धोनी 49वें ओवर की तीसरी गेंद पर दूसरा रन लेने की कोशिश में आउट हुए. उनके दूसरे रन के लिए क्रीज पर पहुंचने से पहले ही मार्टिन गप्टिल का दनदनाता थ्रो बेल्स उड़ा ले गया. टि्वटर पर एक वीडियो और मैदान का ग्राफिक्स वायरल हो रहा है, जिसके मुताबिक धोनी नो बॉल पर आउट हुए. 
 

इस ग्राफिक्स के मुताबिक, जब धोनी ने शॉट खेला, तब 30 गज के दायरे से छह फील्डर बाहर थे. नियमानुसार तीसरे पावरप्ले में 30 गज के दायरे से बाहर 5 फील्डर ही रह सकते हैं. यानी, अंपायर को इस गेंद को नो बॉल करार दिया जाना चाहिए था. 

 

क्रिकेटप्रेमी जानते हैं कि यदि यह नो बॉल होती तब भी एमएस धोनी रन आउट हो सकते थे. नियमानुसार, नो बॉल पर बल्लेबाज रन आउट हो सकता है. लेकिन इससे क्रिकेट फैंस का अंपायरों पर से गुस्सा कम नहीं हो रहा है. क्रिकेट फैंस खराब अंपायरिंग के लिए आईसीसी तक को दोषी ठहरा रहे हैं. साथ ही यह भी कह रहे हैं कि अगर अंपायर नो बॉल देता तो भारत को फ्रीहिट मिलती. 

बता दें कि धोनी के आउट होने से पहले भारत को अंतिम 10 गेंदों पर 25 रन की जरूरत थी. लेकिन गप्टिल की सीधी थ्रो ने धोनी को रन आउट कर दिया. न्यूजीलैंड ने भारत को 240 रन का लक्ष्य दिया था. इसके जवाब में पूरी भारतीय टीम 221 रन पर आउट हो गई और 18 रन से हार गई.