close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोहली बोले, 'बुमराह इतनी तेज गेंद डालता है कि कैच लेने पर मेरे हाथ 15 मिनट तक झन्नाते रहे'

भारतीय कप्तान विराट कोहली के लिए विश्वकप 2019 में जीत के साथ अपनी कप्तानी का आगाज किया है. मैच के बाद कोहली ने रोहित शर्मा और तेज गेंदबाज बुमराह की तारीफ के पुल बांधे.

कोहली बोले, 'बुमराह इतनी तेज गेंद डालता है कि कैच लेने पर मेरे हाथ 15 मिनट तक झन्नाते रहे'
भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि हमारे लिए जीत से शुरुआत करना महत्वपूर्ण था.

साउथम्पटन: भारतीय कप्तान विराट कोहली के लिए विश्वकप 2019 में जीत के साथ अपनी कप्तानी का आगाज किया है. भारत ने पहले मैच में दक्षिण अफ्रीका को छह विकेट से हरा दिया. 228 रनों का लक्ष्य भारत ने 47.3 ओवरों में चार विकेट खोकर हासिल कर लिया. मैच के बाद कोहली ने रोहित शर्मा और तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की तारीफ के पुल बांधे.

कप्तान कोहली ने बुमराह की प्रशंसा करते हुए कहा, "जसप्रीत एक अलग ही स्तर पर खेल दिखा रहा है. बल्लेबाज उसके सामने हमेशा दबाव का अनुभव करते हैं. चहल भी शानदार गेंदबाजी कर रहा है. बुमराह इतनी तेजी से गेंद डालता है कि डिकॉक का कैच जब मैंने लिया तो अगले 15 मिनट तक मेरा हाथ झन्नाता रहा."  

कोहली ने कहा, "बुमराह ने जिस तरह से अमला को आउट किया वह लाजवाब था. मैंने अमला को इस तरह से स्लिप में कैच देकर आउट होते हुए नहीं देखा. रोहित की पारी विशेष थी. शीर्ष तीन बल्लेबाजों में से किसी का एक का शतक लगाना हमारे लिए जरूरी है." 

जीत से उत्साहित टीम इंडिया के कप्तान कोहली ने कहा, "हमें पहले मैच के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा ओर इसके बाद इस तरह का मैच खेला. मैच पूरे समय चुनौतीपूर्ण बना रहा. हमारे लिए जीत से शुरुआत करना महत्वपूर्ण था. अगर आप मैच पर गौर करो तो यह चुनौतीपूर्ण था. यह पेशेवर जीत है." 

उन्होंने कहा, "अगर हम टास जीतते तो पहले गेंदबाजी ही करते. परिस्थितियां तब गेंदबाजों के अनुकूल थी और वे दो हार के बाद इस मैच में उतरे थे. जसप्रीत बुमराह हमेशा अलग स्तर की गेंदबाजी करता है. बल्लेबाज हमेशा उसके सामने दबाव महसूस करते हैं. चहल ने बेजोड़ गेंदबाजी की." 

उधर, मैच के बाद रोहित ने कहा कि वह अपना स्वभाविक खेल नहीं दिखा सके. मैन ऑफ द मैच रोहित ने कहा, "यहां बल्लेबाजी करना भारत से अलग अनुभव रहा. शुरुआती ओवर में संभलकर खेलना पड़ा और देखना पड़ा कि गेंद क्या कर रही है. अपना स्वभाविक खेल नहीं दिखा सका. अपने पसंदीदा शॉट खेलने में सावधानी बरती. कई गेंदें छोड़ दी."