close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

World Cup 2019: अफगानिस्तान के सामने भारत के खिलाफ बड़ी हार टालने की चुनौती

अफगानिस्तान के खिलाफ टीम इंडिया पर प्रतिष्ठा के अनुरूप बड़ी जीत दर्ज करने का दबाव होगा.

World Cup 2019: अफगानिस्तान के सामने भारत के खिलाफ बड़ी हार टालने की चुनौती
भारत-अगानिस्तान मैंच में टीम इंडिया की बड़ी जीत की उम्मीद की जा रही है. (फाइल फोटो)

साउथैंपटन:  आईसीसी विश्व कप 2019 (ICC World Cup 2019) में अपने विजयी अभियान जारी रखने के लिएटीम इंडिया अफगानिस्तान के खिलाफ (India vs Afghanistan) बड़ी जीत के इरादे से उतरेगी. वैसे तो खिताब के प्रबल दावेदार भारत का अफगानिस्तान के खिलाफ मैच एकतरफा होने की संभावना लग रही है लेकिन भारतीय बल्लेबाज मौका मिलने पर कुछ नए रिकार्ड स्थापित कर सकते हैं. इस मैच में बड़ी जीत से भारत की सेमीफाइनल की राह अधिक आसान हो जाएगी.

मुश्किल मैच होगा अफगानिस्तान के लिए
अफगानिस्तान का विवादास्पद अभियान मैदान के अंदर और बाहर के गलत फैसलों के कारण बेहद खराब रहा है. अब उनका सामना स्टार क्रिकेटरों से सजी टीम से है जो लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. भारत ऐसी टीम रही जिसे शुरू में ही कड़े मुकाबलों का सामना करना पड़ा तथा दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान पर जीत के बाद अब विराट कोहली की टीम अजेय नजर आ रही है. सलामी बल्लेबाज शिखर धवन, तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार और आलराउंडर विजय शंकर के चोटिल होने के बावजूद भारत ने दबदबा बनाए रखा.

यह भी पढ़ें: World Cup 2019: इंग्लैंड के खिलाफ 'भगवा' जर्सी पहनकर उतरेगी टीम इंडिया, जानिए क्यों

क्या शिखर धवन की कमी खलेगी?
ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक जड़ने के बाद अंगूठे की चोट के कारण धवन का बाहर होना भारत के लिये बड़ा झटका था लेकिन केएल राहुल ने पाकिस्तान के खिलाफ शीर्ष क्रम में अच्छा प्रदर्शन करके उनकी खास कमी नहीं खलने दी. रोहित शर्मा अपनी शानदार फार्म में हैं और अगर भारत को पहले बल्लेबाजी का मौका मिलता है तो वह एक और दोहरा शतक जमाने की कोशिश करेंगे. कप्तान कोहली ने ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के खिलाफ आसानी से अर्धशतक जमाये हैं.

विजय शंकर की चोट ला सकती है बदलाव
 शंकर की चोट टीम के लिये चिंता का विषय हो सकती है लेकिन युवा ऋषभ पंत के आने से टीम को नया आयाम मिला है जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है. अगर शंकर समय पर फिट नहीं होते हैं तो फिर पंत या दिनेश कार्तिक में से किसी एक को अंतिम एकादश में जगह मिल सकती है. 

मध्य क्रम में हो सकते हैं कुछ बदलाव
हार्दिक पंड्या ने बल्लेबाजी क्रम में ऊपर भेजे जाने का फायदा उठाया है जबकि महेंद्र सिंह धोनी विकेट के आगे और विकेट के पीछे हमेशा की तरह अव्वल साबित हुए हैं. इस मैच में कोहली को केदार जाधव को ऊपरी क्रम में भेजने का मौका मिल सकता है क्योंकि वही एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्हें अब तक तीन मैचों में खास बल्लेबाजी का अवसर नहीं मिला है. जाधव ने अब तक केवल आठ गेंदों का सामना किया है. भारतीय टीम प्रबंधन आगे के मैचों से पहले उन्हें पर्याप्त मैच अभ्यास देने की कोशिश करेगा.

अफगानिस्तान की टीम की कम नहीं हैं मुसीबतें
अफगानिस्तान का आक्रमण अभी कमजोर नजर आ रहा है और उसका मुख्य गेंदबाज राशिद खान फार्म में नहीं हैं. अफगानिस्तान के अनुभवहीन बल्लेबाजों के लिये कुलदीप यादव या युजवेंद्र चहल का सामना करना भी आसान नहीं होगा. अफगानिस्तान हालांकि भारत को कड़ी चुनौती पेश करके अपना आत्मविश्वास बढ़ाने की कोशिश करेगा.

बुमराह लगाएंगे पूरा जोर
भारतीय गेंदबाजी भी प्रतियोगिता में सबसे संतुलित लग रही है लेकिन तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने कहा कि उनकी टीम अफगानिस्तान को कमजोर नहीं आंक रही है. बुमराह ने कहा, ‘‘हम किसी टीम को हल्के से नहीं लेते. चाहे ऑस्ट्रेलिया हो या अफगानिस्तान, हम प्रत्येक टीम का बराबर सम्मान करते हैं. हम अपने मजबूत पक्षों पर ध्यान देते हैं और हमें अभी यही करना चाहिए. ’’

शमी को मिल सकता है मौका
भुवनेश्वर पाकिस्तान के खिलाफ 16 गेंदें करने के बाद मांसपेशियों में खिंचाव के कारण मैदान से बाहर चले गये थे. भारत को इसका नुकसान नहीं हुआ क्योंकि विजय शंकर और पंड्या ने अच्छी गेंदबाजी की. अफगानिस्तान के खिलाफ मोहम्मद शमी को टूर्नामेंट में अपना पहला मैच खेलने का मौका मिल सकता है तथा उनकी तेजी और मूवमेंट हजरातुल्लाह जाजई, हशमुतुल्लाह शाहिदी और असगर अफगान जैसे बल्लेबाजों को परेशानी में डाल सकती है.

टीमें इस प्रकार हैं :
भारत: विराट कोहली (कप्तान), केएल राहुल, रोहित शर्मा, विजय शंकर, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), हार्दिक पंड्या, केदार जाधव, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, दिनेश कार्तिक, रविंद्र जडेजा, ऋषभ पंत.

अफगानिस्तान: गुलबदन नायब (कप्तान), नूर अली जदरान, हजरतुल्लाह जजाइ, रहमत शाह, असगर अफगान, हशमतुल्लाह शाहिदी, नजीबुल्लाह जदरान, समिउल्लाह शिनवारी, मोहम्मद नबी, रशीद खान, दौलत जदरान, आफताब आलम, हामिद हसन, मुजीब उर रहमान, इकराम अली खिल.