close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ICC World Cup 2019: सचिन ने कहा, धोनी में सकारात्मक रवैये की कमी...

महेंद्र सिंह धोनी ने आईसीसी विश्व कप ( ICC Cricket World Cup 2019) में अफगानिस्तान के खिलाफ 52 गेंदों पर 28 रन बनाए थे. 

 ICC World Cup 2019: सचिन ने कहा, धोनी में सकारात्मक रवैये की कमी...
सचिन तेंदुलकर और महेंद्र सिंह धोनी. (फोटो: IANS/ANI)

नई दिल्ली: भारत ने आईसीसी विश्व कप ( ICC Cricket World Cup 2019) में अफगानिस्तान को 11 रन से हराया. यह पहला ऐसा मैच था, जिसमें भारतीय टीम कई बार संकट में दिखी. खासकर टीम की बैटिंग कमजोर रही. सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने इस मैच का जिक्र होने पर कहा कि महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) और केदार जाधव (Kedar Jadhav) की बल्लेबाजी में सकारात्मकता की कमी दिखी. 

भारत ने अफगानिस्तान के खिलाफ शनिवार को खेले गए मैच में आठ विकेट पर 224 रन बनाए थे. इसके अफगानिस्तान की टीम इसके जवाब में 213 रन बनाकर आउट हो गई थी. सचिन तेंदुलकर ने इस मैच के बारे में कहा, ‘सच कहूं तो मुझे थोड़ी निराशा हुई. बैटिंग और बेहतर हो सकती थी. मुझे केदार जाधव (Kedar Jadhav) और धोनी की साझेदारी से भी निराशा हुई, जो काफी धीमी थी. हमने स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ 34 ओवर बल्लेबाजी की और 119 रन बनाए. हम बिल्कुल भी सहज नहीं दिखे. सकारात्मक रवैये की कमी दिखी.’

यह भी पढ़ें: 17 साल की उम्र में विंबलडन जीतने वाला टेनिस स्टार उधार चुकाने के लिए नीलाम करेगा ट्राफियां...

एमएस धोनी और जाधव ने पांचवें विकेट लिए 84 गेंद में सिर्फ 57 रन की साझेदारी की. इसमें धोनी का योगदान 36 गेंद में 24 रन था. केदार जाधव ने इस दौरान 48 गेंद में 31 रन बनाए. सचिन तेंदुलकर ने कहा, ‘हर ओवर में दो तीन से अधिक डॉट गेंद हो रही थी. मध्यक्रम के बल्लेबाजों को हालांकि अभी तक ज्यादा मौके नहीं मिले हैं, जिससे वे दबाव में थे. इसके बावजूद उन्हें बेहतर रवैया दिखाना चाहिए था.’

सचिन तेंदुलकर ने कहा कि जाधव को अब तब बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला था. इसलिए धोनी को जिम्मेदारी उठानी चाहिए थी. जाधव ने टूर्नामेंट में इससे पहले पाकिस्तान के खिलाफ आठ गेंदों का सामना किया था. उन्होंने कहा, ‘जाधव दबाव में थे. उन्हें इससे पहले बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला था. उन्हें किसी ऐसे साझेदार की जरूरत थी जो शुरुआत में जिम्मेदारी ले सके लेकिन ऐसा नहीं हुआ.’

(इनपुट: भाषा)