close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

World Cup 2019: शमी और भुवी ने बढ़ाया कप्तान कोहली का ‘सिरदर्द’, कोच ने दी यह राय...

आईसीसी विश्व कप (ICC World Cup 2019) में भारत और वेस्टइंडीज के बीच गुरुवार को मुकाबला होना है. 

World Cup 2019: शमी और भुवी ने बढ़ाया कप्तान कोहली का ‘सिरदर्द’, कोच ने दी यह राय...
भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री और कप्तान विराट कोहली नेट सेशन के दौरान. (फोटो: ANI)

मुंबई: आईसीसी क्रिकेट विश्व कप (ICC World Cup 2019) में अजेय चल रही भारतीय टीम (Team India) अलग तरह का ‘सिरदर्द’ झेल रही है. ऐसा सिरदर्द जिसे अक्सर टीम और कप्तान के लिए अच्छा भी कहा जाता है. लेकिन कई बार यही दोधारी तलवार भी साबित हो जाता है. जाहिर है टीम इंडिया इससे निपटने के लिए पूरा होमवर्क कर रही है. हम बात कर रहे हैं टीम इंडिया के प्लेइंग कॉम्बिनेशन को चल रहे सिरदर्द की, जो मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) की बेहतरीन गेंदबाजी और भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) के फिट होने के बाद पैदा हुई है. 

दरअसल, भारतीय टीम प्लेइंग XI में दो स्पेशलिस्ट तेज गेंदबाजों के साथ ही खेल रही है. इनमें से जसप्रीत बुमराह ने हर मैच खेला है. भुवनेश्वर ने शुरुआती तीन मैच खेले. तीसरे मैच में अनफिट हो गए. अगले मैच में मोहम्मद शमी प्लेइंग इलेवन में शामिल हुए और चार विकेट ले उड़े. इससे पहले भुवी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो विकेट लिए थे. जाहिर है, दोनों के बीच कड़ी प्रतिद्वंद्विता है. इस प्रतिद्वंद्विता में भुवी को सचिन तेंदुलकर का साथ मिल गया है. उन्होंने कहा कि वेस्टइंडीज के खिलाफ ( India vs West Indies) शमी की जगह भुवी को खिलाना चाहिए. 

जी डिजिटल ने इस बारे में भुवनेश्वर के कोच संजय रस्तोगी (Sanjay Rastogi) से बात की. क्या भुवनेश्वर से चोट लगने के बाद बात हुई है? इस सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि बात तो नहीं हुई है. लेकिन उससे वॉट्सएप पर चैट होती रहती है. बीसीसीआई ने भी बता ही दिया है कि वह फिट है. बता दें कि संजय रस्तोगी वही कोच हैं, जिनकी देखरेख में प्रवीण कुमार ने टीम इंडिया में जगह बनाई थी. अगले महीने इंग्लैंड दौरे पर जाने वाली भारतीय टीम की अंडर-19 टीम में भी संजय रस्तोगी की एकेडमी के क्रिकेटर शामिल हैं. 
 

mo
मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार. (फोटो: Reuters)

भुवी नई गेंद से बेहद असरदार 
अब जबकि भुवी फिट हो गए हैं तो क्या उन्हें प्लेइंग इलेवन में जगह दी जानी चाहिए या शमी की जगह बरकरार रखनी चाहिए? संजय रस्तोगी ने जवाब दिया, ‘दोनों गेंदबाज अलग-अलग शैली के हैं. भुवी नई गेंद से बेहतरीन प्रदर्शन करते हैं, तो शमी सीम बॉलिंग के एक्सपर्ट हैं और रिवर्स स्विंग कराते हैं. इसलिए हमें यहां ऐसी कोई राय नहीं बनानी चाहिए कि प्लेइंग इलेवन में किसे जगह देना सही रहेगा. टीम प्रबंधन कोई भी फैसला लेने से पहले विरोधी टीम की ताकत-कमजोरी और मैदान की परिस्थितयां देखेगी. इसके बाद ही कोई निर्णय लेगी. इसलिए हमें कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के फैसले का समर्थन करना चाहिए.’
 

sanjay
संजय रस्तोगी और भुवनेश्वर कुमार. (फाइल फोटो)

गेल के खिलाफ असरदार हो सकते हैं भुवी 
संजय रस्तोगी ने कहा, ‘भुवनेश्वर की खूबी यह है कि वे नई गेंद से बेहद असरदार हैं. साथ ही अगर बल्लेबाज लेफ्टहैंडर है तो भुवी उसे और ज्यादा परेशान करते हैं. आप पिछले कुछ सालों का रिकॉर्ड उठाकर देख लीजिए. भुवनेश्वर ने क्रिस गेल समेत सभी बाएं हाथ के बल्लेबाजों को खूब परेशान किया है.’  

टीम इंडिया को चाहिए एक जीत
बता दें कि आज (गुरुवार/27 जून) को भारतीय टीम का सामना वेस्टइंडीज से होना है. भारतयी टीम के पांच मैचों में से 9 अंक है. वेस्टइंडीज को हराते ही सेमीफाइनल में उसकी जगह लगभग पक्की हो जाएगी. वेस्टइंडीज छह मैचों में से चार हार चुका है. उसके छह मैचों में से तीन अंक हैं. उसके समीकरण में पहुंचने की उम्मीद अगर-मगर के समीकरण के साथ बनी हुई है. अगर वह भारत से हारा तो उसकी यह बारीकी उम्मीद भी मिट जाएगी.